"मुक्त व्यापार क्षेत्र" के अवतरणों में अंतर

छो
Bot: अंगराग परिवर्तन
छो
छो (Bot: अंगराग परिवर्तन)
{{आज का आलेख}}
[[Fileचित्र:Free Trade Areas.PNG|thumb|300px|वर्तमान मुक्त व्यापार क्षेत्र ''एफ़टीए'']]
'''मुक्त व्यापार क्षेत्र''' ([[अंग्रेज़ी]]: ''फ्री ट्रेड एरिया''; '''एफटीए''') को परिवर्तित कर मुक्त व्यापार संधि का सृजन हुआ है। विश्व के दो राष्ट्रों के बीच व्यापार को और उदार बनाने के लिए मुक्त व्यापार संधि की जाती है। इसके तहत एक दूसरे के यहां से आयात-निर्यात होने वाली वस्तुओं पर सीमा शुल्क, सब्सिडी, नियामक कानून, ड्यूटी, कोटा और कर को सरल बनाया जाता है। इस संधि से दो देशों में उत्पादन लागत बाकी के देशों की तुलना में काफ़ी सस्ती होती है। [[१६वीं शताब्दी]] में पहली बार [[इंग्लैंड]] और [[यूरोप]] के देशों के बीच मुक्त व्यापार संधि की आवश्यकता महसूस हुई थी। आज दुनिया भर के कई देश मुक्त व्यापार संधि कर रहे हैं। यह समझौता वैश्विक मुक्त बाजार के एकीकरण में मील का पत्थर सिद्ध हो रहा है। इन समझौतों से वहां की सरकार को उदारीकरण, निजीकरण और वैश्वीकरण में मदद मिलती है। सरल शब्दों में यह कारोबार पर सभी प्रतिबंधों को हटा देता है।
 
|pages=
|language=हिन्दी
|archiveurl= |archivedate= |quote= }}</ref> इसके तहत अगले आठ वर्षों के लिए भारत और आसियान देशों के बीच होने वाली ८० प्रतिशत उत्पादों के व्यापार पर शुल्क समाप्त हो जाएगा। इससे पूर्व भी भारत के कई देशों और यूरोपियन संघ के साथ मुक्त व्यापार समजौते हो चुके हैं।<ref>[http://navbharattimes.indiatimes.com/rssarticleshow/3625424.cms भारत-जापान एफटीए साल के अंत तक]।नवभारत टाइम्स]]।[[२२ अक्तूबर]], [[२००८]]।[[टोक्यो]]</ref><ref>[http://khabar.ndtv.com/2009/03/27112521/FTA.html भारत के साथ मुक्त व्यापार समझौते पर वार्ता तेज हो : ईयू]।[[२७ मार्च]],[[२००९]]।इंडो एशियन न्यूज़ सर्विस।एनडीटीवी।</ref> यह समझौता गरीबी दूर करने, रोजगार पैदा करने और लोगों के जीवन स्तर को सुधारने में काफी सहायक हो रहा है। मुक्त व्यापार संधि न सिर्फ व्यापार बल्कि दो देशों के बीच राजनैतिक संबंध के बीच कड़ी का काम भी करती है। कुल मिलाकर यह संधि व्यापार में आने वाली बाधाओं को दूर करने और दोतरफा व्यापार को सुचारू रूप से चलाने में सहायक सिद्ध होती है। इस दिशा में [[अमरीका]]-[[मध्य पूर्व]] [[एशिया]] में भी मुक्त क्षेत्र की स्थापना की गई है।<ref>{{cite web |url=http://www.voanews.com/hindi/archive/2003-05/a-2003-05-10-2-1.cfm?moddate=2003-05-10
|title=जॉर्ज बुश ने अमेरिकी-मध्यपूर्व मुक्त व्यापार क्षेत्र की पेशकश की
|accessmonthday= |accessyear= |last= |first= |authorlink= |coauthors= |date=[[१० मई]] |year= [[२००३]]|month= |format=
|archiveurl= |archivedate= |quote= }}</ref>
 
== समस्याएँ और सीमाएँ ==
मुक्त व्यापार क्षेत्र में कंपनियों को मानवाधिकार एवं श्रम संबंधी कानूनों से मुक्ति मिल जाती है। इसका अर्थ होता है श्रमिकों के बुनियादी अधिकारों का हनन और शोषण। वास्तव में मुक्त व्यापार क्षेत्र की अवधारणा का विकास बहुराष्ट्रीय औद्योगिक घरानों द्वारा श्रम कानूनों एवं सामाजिक और पर्यावरणिय दायित्व संबंधी कानूनों से मुक्त रहकर अपने अधिकाधिक लाभ अर्जित करने की कोशिशों का परिणाम है। इसलिए मुक्त व्यापार क्षेत्र का मानवाधिकार संगठनों, पर्यावरणवादियों एवं श्रम संगठनों द्वारा प्रायः विरोध किया जाता है।
 
== संदर्भ ==
<references />
 
== बाहरी सूत्र ==
* [http://hi.wikipedia.org/w/index.php?title=%E0%A4%AE%E0%A5%81%E0%A4%95%E0%A5%8D%E0%A4%A4_%E0%A4%B5%E0%A5%8D%E0%A4%AF%E0%A4%BE%E0%A4%AA%E0%A4%BE%E0%A4%B0_%E0%A4%95%E0%A5%8D%E0%A4%B7%E0%A5%87%E0%A4%A4%E0%A5%8D%E0%A4%B0&action=edit वैश्विक संकट का कारण मुक्त व्यापार नहीं: बुश]
* [http://forextrainingblog.info/hi/2009/07/learn-to-trade-from-these-free-trading-videos/ मुक्त व्यपार के निःशुल्क वीडियो देखें]
74,334

सम्पादन