"वास्तुकला" के अवतरणों में अंतर

4,169 बैट्स् जोड़े गए ,  9 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
No edit summary
[[भवन|भवनों]] के विन्यास, आकल्पन, और रचना की, तथा परिवर्तनशील समय, तकनीक और रुचि के अनुसार मानव की आवश्यकताओं को संतुष्ट करने योग्य सभी प्रकार के स्थानों के तर्कसंगत एवं बुद्धिसंगत निर्माण की कला, विज्ञान तथा तकनीक का संमिश्रण '''[[वास्तुकला]]''' (आर्किटेक्चर) की परिभाषा में आता है।
 
इसका और भी स्पष्टकीण किया जा सकता है। वास्तुकला [[ललितकला]] की वह शाखा रही है, और है, जिसका उद्देश्य औद्योगिकी का सहयोग लेते हुए उपयोगिता की दृष्टि से उत्तम भवननिर्माण करना है, जिनके पर्यावरण सुसंस्कृत एवं कलात्मक रुचि के लिए अत्यंत प्रिय, सौंदर्य-भावना के पोषक तथा आनंदकर एवं आनंदवर्धक हों। प्रकृति, बुद्धि एवं रुचि द्वारा निर्धारित और नियमित कतिपय सिद्धांतों और अनुपातों के अनुसार रचना करना इस कला का संबद्ध अंग है। नक्शों और पिंडों का ऐसा विन्यास करना और संरचना को अत्यंत उपयुक्त ढंग से समृद्ध करना, जिससे अधिकतम सुविधाओं के साथ रोचकता, सौंदर्य, महानता, एकता, और शक्ति की सृष्टि हो से यही वास्तुकौशल है। प्रारंभिक अवस्थाओं में, अथवा स्वल्पसिद्धि के साथ, वास्तुकला का स्थान मानव के सीमित प्रयोजनों के लिए आवश्यक पेशों, या व्यवसायों में-प्राय: मनुष्य के लिए किसी प्रकार का रक्षास्थान प्रदान करने के लिए होता है। किसी जाति के इतिहास में वास्तुकृतियाँ महत्वपूर्ण तब होती हैं, जब उनमें किसी अंश तक सभ्यता, समृद्धि और विलासिता आ जाती है, और उनमें जाति के गर्व, प्रतिष्ठा, महत्वाकांक्षा, और आध्यात्मिकता की प्रकृति पूर्णतया अभिव्यक्त होती है।
प्राचीन काल में वास्तुकला सभी कलाओं की जननी कही जाती थी। किंतु वृत्ति के परिवर्तन के साथ और संबद्ध व्यवसायों के भाग लेने पर यह समावेशक संरक्षण की मुहर अब नहीं रही। वास्तुकला पुरातन काल की सामाजिक स्थिति प्रकाश में लानेवाला मुद्रणालय भी कही गई है। यह वहीं तक ठीक है जहाँ तक सामाजिक एवं अन्य उपलब्धियों का प्रभाव है। यह भी कहा गया है कि वास्तुकला भवनों के अलंकरण के अतिरिक्त और कुछ नहीं है। जहाँ तक ऐतिहासिक वास्तुकला का संबंध है, यह अंशत: सत्य है। फिर वास्तुकला सभ्यता का साँचा भी कही गई है। जहाँ तक पुरातत्वीय प्रभाव है, यह ठीक है किंतु वास्तुकला के इतिहास पर एक संक्षिप्त दृष्टिपात से यह स्पश्ट हो जाएगा कि मानव के प्राचीनतम प्रयास शिकारियों के आदिकालीन गुफा-आवासों, चरवाहों के चर्म-तंबुओं और किसानों के झोपडों के रूप में देख पड़ते हैं। नौका-आवास और वृक्षों पर बनी झोपड़ियाँ पुराकालीन विशिष्टताएँ हैं। धार्मिक स्मारक बनाने के आदिकालीन प्रयास पत्थर और लकड़ी की बाड़ के रूप में थे। इन आदिकालीन प्रयासों में और उनके सुधरे हुए रूपों में सभी देशों में कुछ न कुछ बातें ऐसी महत्वपूर्ण और विशिष्ट प्रकार की हैं कि बहुत दिन बाद की महानतम कला कृतियों में भी वे प्रत्यक्ष हैं।
 
युगों के द्रुत विकासक्रम में वास्तुकला विकसी, ढली, और मानव की परिवर्तनशील आवश्कताओंआवश्यकताओं के - उसकी सुरक्षा, कार्य, धर्म, आनंद, और अन्य युगप्रर्वतक चिह्नों, अनुरूप बनी। [[मिस्र]] के सादे स्वरूप, चीन के मानक अभिकल्प-स्वरूप, भारत के विदेशी तथा समृद्ध स्वरूप, मैक्सिको के मय और ऐजटेक की अनगढ़ महिमा, यूनान के अत्यंत विकसित देवायतन, रोमन साम्राज्य की बहुविध आवश्यकताओं की पूर्ति करनेवाले जटिल प्रकार के भवन, पुराकालीन आडंबरहीन गिरजे, महान्‌ गाथिक गिरजा भवन और चित्रोपम दुर्ग, तुर्की इमारतों के उत्कृष्ट विन्यास एवं अनुपात, और यूरोपीय पुनरुत्थान के भव्य वास्तुकीय स्मारक ऐतिहासिक वास्तु के सतत विकास का लेखा प्रस्तुत करते हैं। ये सब इमारतें मानव विकास के महान युगों की ओर इंगित करती हैं, जिनमें वास्तुकला जातीय जीवन से अत्यधिक संबंधित होने के कारण उन जातियों की प्रतिभा और महत्वाकांक्षा का, जिनकी उनके स्मारकों पर सुस्पष्ट छाप हैं, दिग्दर्शन कराती हैं।
 
प्रत्येक ऐतिहासिक वास्तु की उपलब्धियाँ मोटे तौर से दो मूलभूत सिद्धांतों से निश्चित की जा सकती हैं, एक जो संकल्पना में अंतर्निहित है, और दूसरा जो सर्वोच्च विशिष्टता का द्योतक है। मिस्री वास्तु में यह युगोत्तरजीवी विशाल और भारी स्मारकों द्वारा व्यक्त रहस्यमयता है, असीरियाई, बेबींलोनी और ईरानी कला में, यह शस्त्रशक्ति और विलासी जीवन था, यूनानी कला में यह निश्चयात्मक आयोजना और संशोधित दृष्टिभ्रम था जिसके फलस्वरूप सादगी और परिष्कृत पूर्णता आई। रोमनों में यह भव्यता, आनंद एवं शक्ति का प्रेम था जिसके फलस्वरूप विलक्षण वैज्ञानिक निर्माण हुआ। पुराकालीन ईसाइयों में यह ईसामसीह की सच्ची सादगी और गौरव व्यक्त करनेवाले गिरजाघरों के निर्माण के प्रति भारी उत्साह के रूप में था; गाथिक निर्माताओं में यह संरचना यांत्रिकी के ज्ञान से युक्त उत्कट शक्ति थी; इतालवी पुनरुद्धार में यह उस युग की विद्वत्ता थी। बौद्ध और हिंदू वास्तुकला का उत्कृष्ट गुण उसका आध्यात्मिक तत्व है, जा उसके विकास में आद्योपांत प्रत्यक्ष है। मुसलमानी वास्तुकला में अकल्पनीय धन संपदा, ठाट, और विशाल भूखंड पर उसका प्रभुत्व झलकता है; जबकि भारत का भीमकाय अफगानी वास्तु उस शासन की आक्रामक प्रवृत्ति प्रकट करता है; किंतु मुगल स्मारक उत्कृष्ट अनुपात मुगलों के और कृति संबंधी प्रेम को दर्शाने में श्रेष्ठ हैं तथा भारत की गर्मी में उनका जीवन भलीभाँति व्यक्त करते हैं। इस प्रकार भूतकालीन कृतियों में हम देखते हैं कि चट्टनों, ईटों और पत्थरों में मूर्त वे विचार ही हैं जो उपर्युक्त और विश्वसनीय ढंग से किसी न किसी रूप में गौरव के शिखर पर पहुँची हुई सभ्याताओं की तत्कलीन धर्म संबंधी या अन्य जागृति व्यक्त करते हैं।
== इन्हें भी देखें ==
* [[वास्तुकला का इतिहास]]
* [[भारतीय स्थापत्य]]
* [[वास्तुशास्त्र]]
* [[फेंग शुई]]
 
== बाहरी कड़ियाँ ==
* [http://books.google.co.in/books?id=ia0zdafBG4kC&printsec=frontcover#v=onepage&q&f=false सम्पूर्ण वास्तुशास्त्र] (गूगल पुस्तक ; लेखक - डॉ भोजराज द्विवेदी)
* [http://www.boloji.com/architecture/index.htm Architecture of India]
* [http://books.google.co.in/books?id=JS3H9aiQs6QC&printsec=frontcover#v=onepage&q=&f=false The architects' handbook] (Google Booka By Quentin Pickard)
 
{{प्राचीन भारतीय कला}}
 
[[श्रेणी:वास्तुशास्त्र]]
[[श्रेणी:स्थापत्य]]
[[श्रेणी:कला]]
[[श्रेणी:वास्तुकला]]
 
[[af:Argitektuur]]
[[als:Architektur]]
[[an:Arquitectura]]
[[ar:عمارة]]
[[arz:عماره]]
[[ast:Arquiteutura]]
[[az:Memarlıq]]
[[bar:Architektur]]
[[bat-smg:Arkėtektūra]]
[[be:Архітэктура]]
[[be-x-old:Архітэктура]]
[[bg:Архитектура]]
[[bn:স্থাপত্য]]
[[bo:ཁང་རྩིག་བཟོ་རིག]]
[[br:Arkitektouriezh]]
[[bs:Arhitektura]]
[[ca:Arquitectura]]
[[ceb:Arkitektura]]
[[ckb:تەلارسازی]]
[[co:Architittura]]
[[cs:Architektura]]
[[csb:Architektura]]
[[cv:Архитектура]]
[[cy:Pensaernïaeth]]
[[da:Arkitektur]]
[[de:Architektur]]
[[el:Αρχιτεκτονική]]
[[en:Architecture]]
[[eo:Arkitekturo]]
[[es:Arquitectura]]
[[et:Arhitektuur]]
[[eu:Arkitektura]]
[[ext:Arquitetura]]
[[fa:معماری]]
[[fi:Arkkitehtuuri]]
[[fiu-vro:Ehitüskunst]]
[[fr:Architecture]]
[[frr:Arkitäktuur]]
[[fur:Architeture]]
[[fy:Boukeunst]]
[[ga:Ailtireacht]]
[[gan:建築學]]
[[gd:Ailtireachd]]
[[gl:Arquitectura]]
[[gn:Jogapokuaa]]
[[gv:Ard-obbrinys]]
[[he:אדריכלות]]
[[hif:Architecture]]
[[hr:Arhitektura]]
[[ht:Achitekti]]
[[hu:Építészet]]
[[hy:Ճարտարապետություն]]
[[ia:Architectura]]
[[id:Arsitektur]]
[[ie:Architectura]]
[[ilo:Arkitektura]]
[[io:Arkitekturo]]
[[is:Byggingarlist]]
[[it:Architettura]]
[[iu:ᐃᒡᓗᕐᔪᐊᑦ ᐋᖅᑭᒃᓯᒪᓂᖏᑦ]]
[[ja:建築]]
[[jv:Arsitèktur]]
[[ka:არქიტექტურა]]
[[kk:Сәулет өнері]]
[[kl:Ilusilersugaaneq]]
[[ko:건축]]
[[ks:فَنہِ تعمیٖرات]]
[[ky:Архитектура]]
[[la:Architectura]]
[[lad:Arkitektura]]
[[lb:Architektur]]
[[li:Architectuur]]
[[lmo:Architetüra]]
[[lo:ສະຖາປັດຕະຍະກຳ]]
[[lt:Architektūra]]
[[lv:Arhitektūra]]
[[mdf:Аркитектурсь]]
[[mg:Maritrano]]
[[min:Arsitektur]]
[[mk:Архитектура]]
[[ml:വാസ്തുവിദ്യ]]
[[mn:Архитектур]]
[[mr:वास्तुशास्त्र]]
[[ms:Seni bina]]
[[mwl:Arquitetura]]
[[my:ဗိသုကာပညာ]]
[[nah:Calmanaliztli]]
[[nap:Architettura]]
[[nds-nl:Architektuur]]
[[nl:Architectuur]]
[[nn:Arkitektur]]
[[no:Arkitektur]]
[[nov:Arkitekture]]
[[nrm:Architectuthe]]
[[oc:Arquitectura]]
[[os:Архитектурæ]]
[[pap:Arkitectura]]
[[pih:Aarkitekchur]]
[[pl:Architektura]]
[[pnb:آرکیٹکچر]]
[[pt:Arquitetura]]
[[qu:Sumaq wasichay kamay]]
[[ro:Arhitectură]]
[[ru:Архитектура]]
[[rue:Архітектура]]
[[sa:वास्तुशास्त्रम्]]
[[sah:Архитектура]]
[[scn:Architittura]]
[[sco:Airchitectur]]
[[sh:Arhitektura]]
[[si:ගෘහ නිර්මාණ ශිල්පය]]
[[simple:Architecture]]
[[sk:Architektúra]]
[[sl:Arhitektura]]
[[sq:Arkitektura]]
[[sr:Архитектура]]
[[stq:Baukunst]]
[[su:Arsitéktur]]
[[sv:Arkitektur]]
[[sw:Ujenzi]]
[[ta:கட்டிடக்கலை]]
[[te:భవన నిర్మాణ శాస్త్రం]]
[[tg:Меъморӣ]]
[[th:สถาปัตยกรรม]]
[[tl:Arkitektura]]
[[tr:Mimarlık]]
[[tt:Архитектура]]
[[uk:Архітектура]]
[[ur:معماری]]
[[vec:Architetura]]
[[vi:Kiến trúc]]
[[war:Arkitektura]]
[[xmf:არქიტექტურა]]
[[yi:ארכיטעקטור]]
[[zea:Architectuur]]
[[zh:建筑]]
[[zh-min-nan:Kiàn-tio̍k]]
[[zh-yue:建築學]]