"दण्डपाणि जयकान्तन" के अवतरणों में अंतर

आकार में कोई परिवर्तन नहीं ,  13 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
१९५० के दशक की शुरुवात से ही वह लिखते आ रहे हैं, और जल्दि ही तमिल के जाने-माने लेखकों में माने जाने लगे। हलांकि उनका नज़रिया वाम पक्षीय ही रहा, वह खुद पार्टी के सदस्य न रहे, और काँग्रेस पार्टी में भर्ती हो गए।
 
४० उपन्यासों के अलावा उन्होंने कई-कई लघुकथाएंलघुकथाएँ, आत्मकथा (दो खंडों में), और रोमेन रोलांड द्वारा फ़्रेन्च में रची गयी [[महात्मा गांधी|गांधी जी]] कि जीवनी का तमिल अनुवाद भी किया है।
 
"जटिल मानव स्वभाव के गहरे और संवेदनशील समझ" के हेतु, उनकी कृतियों को "तमिल साहित्य की उच्च परम्पराओं की अभिवृद्दि" के लिए २००२ में [[ज्ञानपीठ]] पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
133

सम्पादन