"हरदोई" के अवतरणों में अंतर

806 बैट्स् नीकाले गए ,  7 वर्ष पहले
छो (→‎बाहरी कड़ियाँ: रोमन लिपि, असंदर्भित)
इसके अतिरिक्त हरदोई से लगभग ३६ किमी दूरी पर स्थित शाहाबाद मे दिलेर शाह का मकबरा भी दर्शनीय स्थल है। हरदोई से करीब 50 किलोमीटर पूर्व की दिशा में हत्‍याहरण तीर्थ है। बताते हैं कि रावण बध के बाद भगवान श्रीराम को ब्राह्मण की हत्‍या का पाप लग गया। इसके लिए राम को देश भर के तीर्थो में स्‍नान करने को कहा गया। हत्‍याहरण तीर्थ में स्‍नान करने के बाद राम को ब्राह़मण हत्‍या के पाप से मुक्ति मिली। इसी घटना के बाद इसका नाम हत्‍याहरण तीर्थ पडा। हत्‍याहरण तीर्थ से करीब 15 किलोमीटर पूर्व में अतरौली थाने के निकट जंगलीशिव तीर्थ स्‍थान है। जहां पर प्रतिमाह अमावश को मेला लगता है। तमाम श्रद्धालु जंगलीशिव तीर्थ में मार्जिन करके रोजाना पुण्‍य कमाते हैं। जंगलीशिव तीर्थ से 5 किलोमीटर पूर्व में भरावन से आगे चलने पर आस्तिक मुनि का प्राचीन मंदिर है। इसी स्‍थान पर आस्तिक मुनि ने कई वर्षो तक तपस्‍या की थी। अतरौली थानाक्षेत्र में ही भगवान बाणेश्‍वर महादेव मंदिर व तीर्थस्‍थान सोनिकपुर स्थित है। इस मंदिर का ऐतिहासिक महत्‍व है।
 
==शिक्षा==sanatan dharm inter college hardoi
Hardoi Me Educatin ke liye ek college hai Raja Rukmangad Singh Inter College(R R I C ). Jo Kafi Shandar Bana Hua Hai. Eske Nirman Me Kafi Samay Laga Tha. हरदोई की तहसील संडीला के कस्‍बा अतरौली में पब्लिक साइंस स्‍कूल स्थित है। क्षेत्र में यह विद्यालय अच्‍छी शिक्षा के नाम से जाना जाता है। यहां पर स्‍मार्ट क्‍लास की सुविधा उपलब्‍ध है। पब्लिक साइंस स्‍कूल अतरौली के प्रबंधक शिवकुमार तिवारी का मोबाइल नंबर 9919381399 है।
Hardoi ke sabse pahle MP Mr. Bulaki Ram Verma Hai Jinhe 1952 Ke First Member Of Parliament Ke Roop Mai Hardoi ki Janta ne chuna
 
== संदर्भ ==
555

सम्पादन