"तत्त्वमीमांसा": अवतरणों में अंतर

1,084 बाइट्स जोड़े गए ,  9 वर्ष पहले
एक स्पष्टीकरण
छो (Bot: Migrating 85 interwiki links, now provided by Wikidata on d:q35277 (translate me))
(एक स्पष्टीकरण)
 
2. अंतिम सत्ता का स्वरूप क्या है? वह एक प्रकार की है, या एक से अधिक प्रकार की?
 
तत्व का तात्पर्य दो तरह का है: एक तो यह कि वस्तु का निर्माण जिन घटकों से हुआ है और दूसरा यह कि वस्तु की आत्यन्तिकता क्या है। एक तात्पर्य वस्तु को तोड़ते हुए उसके सबसे सूक्ष्म तक पहुचने को कहता है तो दूसरा उसका विलय करते हुए सबसे व्यापक विलायक को तत्व की संज्ञा देता है। कुछ मनीषी ( उपनिषद्, हीगेल, लाइब्नित्ज, आदि......कुछ हद तक) तो इस तरह के भेद को शून्य करते हुए अणिमा - और महिमा - तत्व की अनन्यता का प्रतिपादन करते हैं।
 
<ref>tatva mimansa</ref>== इन्हें भी देखें ==
गुमनाम सदस्य