"गैसों का अणुगति सिद्धान्त": अवतरणों में अंतर

* ये अणु लगातार [[यादृच्छ गति]] कर रहे हैं। तेजी से गति करते हुए ये अणु बर्तन की दीवार से लगातार टकराते रहते हैं।
 
* बर्तन की दीवारों के साथ गैस के अणुओं का [[संघट्टा]संघट्ट]] पूर्ण प्रत्यास्थ संघट्ट है।
 
* अणुओं के बीच परस्पर अन्योन्यक्रिया नगण्य है। संघट्ट को छोड़कर किसी अन्य स्थिति में वे एक-दूसरे पर कोई बल नहीं लगाते ।
* [[विशिष्ट आपेक्षिकता|आपेक्षिक प्रभाव]] नगण्य हैं।
 
* [[क्वाण्टम यांत्रिकी|क्वाण्टम यांत्रिक]] प्रभाव नगण्य हैं। इसका अर्थ यह हुआ कि कणों के बीच की दूरी [[डी ब्रागली तरंगदैर्घ्य]] की तुलना में बहुत अधिक है, और अणुओं को चिरसम्म्त[[चिरसम्मत यांत्रिकी]] के पिण्डॉंपिण्डों की तरह माना जा सकता है।
 
* बर्तन की दीवारों के साथ अणुओं के संघट्ट का समय, दो संघट्टों के बीच के औसत समय की तुलना में नगण्य है।
 
* अणुओं के [[गति के समीकरण]] काल-व्युत्क्रमणीय (time-reversible) हैं।
 
== अणुगति सिद्धान्त का मूलभूत समीकरण ==