"बंकिमचन्द्र चट्टोपाध्याय" के अवतरणों में अंतर

छो (Bot: Migrating 1 interwiki links, now provided by Wikidata on d:q377881 (translate me))
आधुनिक युग में [[बांग्ला साहित्य|बंगला साहित्य]] का उत्थान उन्नीसवीं सदी के मध्य से शुरु हुआ। इसमें [[राजा राममोहन राय]], [[ईश्वर चन्द्र विद्यासागर]], [[परिचन्द्र मित्र]], [[माइकल मधुसुदन दत्त]], '''बंकिम चन्द्र चट्टोपाध्याय''' ([[बांग्ला]] বঙ্কিমচন্দ্র চট্টোপাধ্যায়), [[रवीन्द्रनाथ ठाकुर]] ने अग्रणी भूमिका निभायी। इसके पहले [[बंगाल]] के साहित्यकार बंगला की जगह [[संस्कृत]] या [[अंग्रेजी]] में लिखना पसन्द करते थे। बंगला साहित्य में जनमानस तक पैठ बनाने वालों मे शायद बंकिम चन्द्र चट्टोपाध्याय पहले साहित्यकार थे।
 
<gallery>
चित्र:उदाहरण.jpg|चित्रशीर्षक१
चित्र:उदाहरण.jpg|चित्रशीर्षक२
</gallery>
>
== जीवनी ==
बंकिम चन्द्र चट्टोपाध्याय का जन्म २६ जून, सन् १८३८ को [[उत्तरी चौबीस परगना]] के [[कन्थलपाड़ा]] में एक परंपरागत और समृद्ध बंगाली परिवार में हुआ था। उनकी शिक्षा [[हुगली कॉलेज]] और [[प्रेसीडेंसी कॉलेज]] में हुई। १८५७ में उन्होंने बीए पास किया और १८६९ में क़ानून की डिग्री हासिल की। इसके बाद उन्होने सरकारी नौकरी कर ली और १८९१ में सरकारी सेवा से रिटायर हुए। उनका निधन अप्रैल १८९४ में हुआ। प्रेसीडेंसी कालेज से बी. ए. की उपाधि लेनेवाले ये पहले भारतीय थे। शिक्षासमाप्ति के तुरंत बाद डिप्टी मजिस्ट्रेट पद पर इनकी नियुक्ति हो गई। कुछ काल तक बंगाल सरकार के सचिव पद पर भी रहे। रायबहादुर और सी. आई. ई. की उपाधियाँ पाईं।
बेनामी उपयोगकर्ता