"धातु" के अवतरणों में अंतर

294 बैट्स् जोड़े गए ,  7 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
छो (Bot: Migrating 114 interwiki links, now provided by Wikidata on d:q11426 (translate me))
'' 'धातु' के अन्य अर्थों के लिए देखें - '''[[धातु (बहुविकल्पी)]]''' ''
[[रसायनशास्त्र]] के अनुसार '''धातु''' (metals) वे [[तत्व]] हैं जो सरलता से [[इलेक्ट्रान]] त्याग कर धनायन बनाते हैं और धातुओं के परमाणुओं के साथ धात्विक बंध बनाते हैं। इलेक्ट्रानिक मॉडल के आधार पर, धातु इलेक्ट्रानों द्वारा आच्छादित धनायनों का एक लैटिस हैं।
 
----
[[चित्र:Hot metalwork.jpg|thumb|250px|लुहार द्वारा धातु को गर्म करने पर]]
[[रसायनशास्त्र]] के अनुसार '''धातु''' (metals) वे [[तत्व]] हैं जो सरलता से [[इलेक्ट्रान]] त्याग कर धनायन बनाते हैं और धातुओं के परमाणुओं के साथ धात्विक बंध बनाते हैं। इलेक्ट्रानिक मॉडल के आधार पर, धातु इलेक्ट्रानों द्वारा आच्छादित धनायनों का एक लैटिस हैं।
धातुओं की पारम्परिक परिभाषा उनके बाह्य गुणों के आधार पर दी जाती है। सामान्यतः धातु चमकीले, [[प्रत्यास्थ]], [[आघातवर्धनीय]] और सुगढ होते हैं। धातु [[उष्मा]] और [[विद्युत]] के अच्छे चालक होते हैं जबकि [[अधातु]] सामान्यतः [[भंगुर]], चमकहीन और विद्युत तथा ऊष्मा के [[कुचालक]] होते हैं।
 
धातुओं की पारम्परिक परिभाषा उनके बाह्य गुणों के आधार पर दी जाती है। सामान्यतः धातु चमकीले, [[प्रत्यास्थता|प्रत्यास्थ]], [[आघातवर्धनीयता|आघातवर्धनीय]] और सुगढ होते हैं। धातु [[उष्मा]] और [[विद्युत]] के अच्छे [[चालकता|चालक]] होते हैं जबकि [[अधातु]] सामान्यतः [[भंगुर]], चमकहीन और विद्युत तथा ऊष्मा के [[कुचालक]] होते हैं।
 
== परिचय ==
रासायनिक तत्वों को सर्वप्रथम धातुओं और अधातुओं में विभाजित किया गया, यद्यपि दोनों समूहों को बिल्कुल पृथक्‌ नहीं किया जा सकता था। धातु की परिभाषा करना कठिन कार्य है। मोटे रूप से हम कह सकते हैं कि यदि किसी तत्व में निम्नलिखित संपूर्ण या कुछ गुण हों तो उसे धातु कहेंगे :
 
: (1) चमक, (2) परांधता, (3) साधारण ताप पर ठोस, (4) स्वच्छ सतह द्वारा प्रकाश के परावर्तन (Reflection) का गुण, (5) ऊष्मा एवं विद्युत्‌ की उत्तम चालकता, एवं (6) द्रव अवस्था से ठंण्डा करने पर क्रिस्टल रूप में ठोस पदार्थ का बनना।
: (5) ऊष्मा एवं विद्युत्‌ की उत्तम चालकता, एवं (6) द्रव अवस्था से ठंण्डा करने पर क्रिस्टल रूप में ठोस पदार्थ का बनना।
 
हम यह अवश्य कह सकते हैं कि यदि कोई तत्व विशुद्ध अवस्था में चमकदार और विद्युत्‌ का चालक नहीं है, तो वह अधातु (non-metal) है। प्रकृति में असंयुक्त अवस्था में बिरली धातु ही मिलती है। [[स्वर्ण]], [[रजत]], [[प्लैटिनम]] और कभी-कभी [[ताम्र]] धातुएँ यदा कदायदाकदा मिल जाती हैं। अधिकांश धातुओं के [[अयस्क]] (Ores) मिलते हैं जो अधातुओं (जैसे [[ऑक्सीजन]], [[कार्बन]], [[गंधक]] आदि) के साथ धातुओं के [[यौगिक]] होते हैं। ये यौगिक भी शुद्ध अवस्था में न होकर अन्य [[खनिज]] में मिश्रित रहते हैं। इन अयस्कों से विविध रीतियों द्वारा धातुएँ निकाली जाती हैं।
 
== रासायनिक गुण ==