मुख्य मेनू खोलें

बदलाव

145 बैट्स् जोड़े गए ,  6 वर्ष पहले
== फिल्मी सफ़र ==
 
[[अंदाज़ (1949 फ़िल्म)|अंदाज]], [[आन]], [[मदर इंडिया]], [[अनमोल घड़ी]], [[बैजू बावरा]], [[अमर]], [[स्टेशन मास्टर]], [[शारदा]], [[कोहिनूर]], [[उड़न खटोला]], [[दीवाना]], [[दिल्लगी]], [[दर्द]], [[दास्तान (1950 फ़िल्म)|दास्तान]], [[शबाब]], [[बाबुल]], [[मुगले आजममुग़ल-ए-आज़म]], [[दुलारी]], शाहजहां, [[लीडर]], [[संघर्ष]], [[मेरे महबूब]], [[साज और आवाज]], [[दिल दिया दर्द लिया]], [[राम और श्याम]], [[गंगा जमुना]], [[आदमी]], [[गंवार]], [[साथी]], [[तांगेवाला]], [[पालकी]], [[आइना (1977 फ़िल्म)|आईना]], [[धर्म कांटा]], [[पाकीजापाक़ीज़ा]] (गुलाम मोहम्मद के साथ संयुक्त रूप से), सन ऑफ इंडिया, लव एंड गाड सहित अन्य कई फिल्मों में उन्होंने अपने संगीत से लोगों को झूमने पर मजबूर किया।
 
मारफ्तुन नगमात जैसी संगीत की अप्रतिम पुस्तक के लेखक ठाकुर नवाब अली खां और नवाब संझू साहब से प्रभावित रहे नौशाद ने मुम्बई में मिली बेपनाह कामयाबियों के बावजूद लखनऊ से अपना रिश्ता कायम रखा। मुम्बई में भी नौशाद साहब ने एक छोटा सा लखनऊ बसा रखा था जिसमें उनके हम प्याला हम निवाला थे- मशहूर पटकथा और संवाद लेखक वजाहत मिर्जा चंगेजी, अली रजा और आगा जानी कश्मीरी (बेदिल लखनवी), मशहूर फिल्म निर्माता सुलतान अहमद और मुगले आजम में संगतराश की भूमिका निभाने वाले हसन अली 'कुमार'।
बेनामी उपयोगकर्ता