"लाल कुर्ती आन्दोलन" के अवतरणों में अंतर

सम्पादन सारांश रहित
[[चित्र:Abdul Ghaffar Khan and Gandhi in 1940.jpg|thumb|230px|[[ख़ान अब्दुल ग़फ़्फ़ार ख़ान]] [[महात्मा गांधी]] के साथ]]
'''लाल कुर्ती आंदोलन''' भारत में पश्चिमोत्तर सीमांत प्रांत में [[ख़ान अब्दुल ग़फ़्फ़ार ख़ान]] द्वारा भारतीय राष्ट्रीय कॉंग्रेस [[भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस]] के समर्थन में खुदाई ख़िदमतगार (फारसी शब्द, अर्थात ईश्वर के सेवक) के नाम से किया गया आंदोलन। <ref>[http://sggkstudy.blogspot.in/2013/05/26_15.html सामान्य अध्ययन, प्रश्न-26]</ref>
==प्रकृति==
[[ख़ान अब्दुल ग़फ़्फ़ार ख़ान]] पख्तून थे, जो [[महात्मा गांधी]] तथा उनके अहिंसक सिद्धांतों के बहुत बड़े प्रशंसक थे और कॉंग्रेस को समर्थन देना , सीमांत क्षेत्र में अङ्ग्रेज़ी शासन के बिरुद्ध अपनी शिकायतों पर बल देने का एक रास्ता मानते थे। उन्हें सीमांत गांधी कहा जाता था। उनके अनुयायी अहिंसा के प्रति बचनबद्ध थे और उन्हें अपनी कमीजों के लाल रंग के कारण लाल कुर्ती का लोकप्रिय नाम मिला। बताया जाता है, कि स्कूली शिक्षा के दौरान फिल्म आभिनेता [[ए के हंगल]] भी फ़्रंटियर गांधी यानी [[ख़ान अब्दुल ग़फ़्फ़ार ख़ान]] के नेतृत्व में चल रहे "लाल कुर्ती' आंदोलन से वे पेशावर में स्कूली शिक्षा के दौरान ही जुड़ गये थे।<ref>[http://www.janjwar.com/2011-06-03-11-27-26/2011-06-03-11-46-05/3068-ak-hangal-ipta-cpi-bollywood हरफनमौला थे हमारे हंगल]</ref>
14,932

सम्पादन