"सैमुएल हैनीमेन" के अवतरणों में अंतर

6,055 बैट्स् जोड़े गए ,  12 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
({{merge|सैमुअल हैनिमेन}})
'''डॉ. क्रिश्चियन फ्राइडरिक सैमुअल हैनिमेन''' (जन्‍म 1755-मृत्‍यु 1843 ईस्‍वी) [[होम्योपैथी]] चिकित्सा पद्धति के जन्मदाता थे।
सैमुएल हैनीमेन जर्मन चिकीत्सक थे । ईन्होंने ने [[होम्योपैथी]] के सिद्धांत का आविष्कार कीया था।
 
आप यूरोप के देश जर्मनी के निवासी थे। आपके पिता जी एक पोर्सिलीन पेन्‍टर थे और आपने अपना बचपन अभावों और बहुत गरीबी में बिताया था।एम0डी0 डिग्री प्राप्‍त एलोपैथी चिकित्‍सा विज्ञान के ज्ञाता थे।डा0 हैनिमैन, एलोपैथी के चिकित्‍सक होनें के साथ साथ कई यूरोपियन भाषाओं के ज्ञाता थे। वे केमिस्‍ट्री और रसायन विज्ञान के निष्‍णात थे। जीवकोपार्जन के लिये चिकित्‍सा और रसायन विज्ञान का कार्य करनें के साथ साथ वे अंग्रेजी भाषा के ग्रंथों का अनुवाद जर्मन और अन्‍य भाषाओं में करते थे।
{{merge|सैमुअल हैनिमेन}}
 
एक बार जब अंगरेज डाक्‍टर कलेन की लिखी “कलेन्‍स मेटेरिया मेडिका” मे वर्णित कुनैन नाम की जडी के बारे मे अंगरेजी भाषा का अनुवाद जर्मन भाषा में कर रहे थे तब डा0 हैनिमेन का ध्‍यान डा0 कलेन के उस वर्णन की ओर गया, जहां कुनैन के बारे में कहा गया कि ‘’ यद्यपि कुनैन मलेरिया रोग को आरोग्‍य करती है, लेकिन यह स्‍वस्‍थ शरीर में मलेरिया जैसे लक्षण पैदा करती है।
 
कलेन की कही गयी यह बात डा0 हैनिमेन के दिमाग में बैठ गयी। उन्‍होंनें तर्कपूर्वक विचार करके क्विनाइन जड़ी की थोड़ी थोड़ी मात्रा रोज खानीं शुरू कर दी। लगभग दो हफ्ते बाद इनके शरीर में मलेरिया जैसे लक्षण पैदा हुये। जड़ी खाना बन्‍द कर देनें के बाद मलेरिया रोग अपनें आप आरोग्‍य हो गया। इस प्रयोग को डा0 हैनिमेन ने कई बार दोहराया और हर बार उनके शरीर में मलेरिया जैसे लक्षण पैदा हुये। क्विनीन जड़ी के इस प्रकार से किये गये प्रयोग का जिक्र डा0 हैनिमेन नें अपनें एक चिकित्‍सक मित्र से की। इस मित्र चिकित्‍सक नें भी डा0 हैनिमेन के बताये अनुसार जड़ी का सेवन किया और उसे भी मलेरिया बुखार जैसे लक्षण पैदा हो गये।
 
कुछ समय बाद उन्‍होंनें शरीर और मन में औषधियों द्वारा उत्‍पन्‍न किये गये लक्षणों, अनुभवो और प्रभावों को लिपिबद्ध करना शुरू किया।
 
हैनिमेन की अति सूच्‍छ्म द्रष्टि और ज्ञानेन्द्रियों नें यह निष्‍कर्ष निकाला कि और अधिक औषधियो को इसी तरह परीक्षण करके परखा जाय।
 
इस प्रकार से किये गये परीक्षणों और अपने अनुभवों को डा0 हैनिमेन नें तत्‍कालीन मेडिकल पत्रिकाओं में ‘’ मेडिसिन आंफ एक्‍सपीरियन्‍सेस ’’ शीर्षक से लेख लिखकर प्रकाशित कराया । इसे होम्‍योपैथी के अवतरण का प्रारम्भिक स्‍वरूप कहा जा सकता है।
 
 
== वाह्य सूत्र ==
 
* [http://www.hpathy.com/biography/samuel-hahnemann.asp Life History of Samuel Hahnemann]
* [http://www.whonamedit.com/doctor.cfm/532.html Christian Friedrich Samuel Hahnemann] A historical overview
 
 
[[श्रेणी: जीवनी]]
[[श्रेणी:चिकित्सक]]
[[श्रेणी:होम्योपैथी]]
[[bg:Самуел Ханеман]]
[[ca:Samuel Hahnemann]]
[[da:Samuel Hahnemann]]
[[de:Samuel Hahnemann]]
[[el:Σάμουελ Χάνεμαν]]
[[en:Samuel Hahnemann]]
[[eo:Samuel Hahnemann]]
[[es:Samuel Hahnemann]]
[[fi:Samuel Hahnemann]]
[[fr:Samuel Hahnemann]]
[[gl:Samuel Hahnemann]]
[[he:סמואל האנמן]]
[[ie:Samuel Hahnemann]]
[[it:Samuel Hahnemann]]
[[nl:Samuel Hahnemann]]
[[no:Samuel Friedrich Christian Hahnemann]]
[[oc:Samuel Hahnemann]]
[[pl:Samuel Hahnemann]]
[[pt:Samuel Hahnemann]]
[[ro:Samuel Hahnemann]]
[[ru:Ганеман, Христиан Фридрих Самуэль]]
[[sk:Samuel Hahnemann]]
[[sl:Samuel Hahnemann]]
[[sv:Samuel Hahnemann]]
[[tr:Samuel Hahnemann]]
28,109

सम्पादन