"महावीर (गणितज्ञ)": अवतरणों में अंतर

A Word was miss spelled
छो (117.197.5.27 (Talk) के संपादनों को हटाकर Addbot के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
(A Word was miss spelled)
 
महावीर ने [[गणित]] के महत्व के बारे में कितनी महान बात कही है-
: '''बहुभिर्प्रलापैः किम् , त्रयलोके सचरारेसचराचरे । यद् किंचिद् वस्तु तत्सर्वम् , गणितेन् बिना न हि ॥'''
:( बहुत प्रलाप करने से क्या लाभ है ? इस चराचर जगत में जो कोई भी वस्तु है वह गणित के बिना नहीं है / उसको गणित के बिना नहीं समझा जा सकता )
 
गुमनाम सदस्य