मुख्य मेनू खोलें

बदलाव

रासायनिक इंजीनियरी अनेकानेक प्रकार के उत्पादों के निर्माण में प्रयुक्त होती है। अकार्बनिक एवं कार्बनिक रसायनों का निर्माण करना, सिरैमिक्स, [[ईंधन]], [[पेट्रोरसायन]], [[कृषिरसायन]] (agrochemicals जैसे [[उर्वरक]], [[कीटनाशक]], घासफूसनाशक (herbicides)), [[प्लास्टिक]] एवं एलास्टोमर, [[विस्फोटक]], डिटरजेंत एवं डिटरजेन्ट उत्पाद (जैसे [[साबुन]], [[शैम्पू]], सफाई में प्रयुक्त द्रव आदि]], इत्र, फ्लेवर, एवं औषधियों आदि का निर्माण रसायन इंजीनियरी के प्रमुख अनुप्रयोग हैं।
 
रसायन इंजीनियरी से सम्बन्धित विषय हैं - [[काष्ठ प्रसंस्करण]] (wood processing), [[खाद्य प्रसंस्करण]] (food processing), [[पर्यावरण तकनीकी]] (environmental technology), तथा [[पेट्रोलियम]], [[काँच]], [[पेंट]], चिपकाने वाले पदार्थ (adhesives) आदि
 
== व्युत्पत्ति==
 
विज्ञान लेख के इतिहास के लिए एक 1996 ब्रिटिश जर्नल जॉर्ज ई. डेविस सल्फ्यूरिक एसिड का उत्पादन के संबंध में केमिकल इंजीनियरिंग के लिए एक 1839 संदर्भ उल्लेख के लिए जेम्स एफ डोनेली का हवाला देते है।
 
== इन्हें भी देखें ==
10

सम्पादन