"स्थानापन्न मातृत्व": अवतरणों में अंतर

छो
वेब्साईट
(लेख की लिन्क्स जोड दी गयी)
छो (वेब्साईट)
[[इस्लाम]] विद्धानों शरिया कानून के नज़रैये से सरोगसी प्रक्रिया को अस्वीकार करते हुए कहता है कि पैदा होनेवामले बच्चे को न्यायपूर्व वन्श नहीं मिल सकता है क्योकी तीसरे व्यक्ति के कुल भी जुडे है। फिल्हाल इस प्रक्रिया को विकास संबंधित मुसल्मानो ने अनुकूल किया है।
=== '''हिन्दू धर्म''' और '''बौद्द धर्म''' ===
[[हिन्दू धर्म]] विशेष परिस्थितियों मे बंजरपन और कृत्रिम गर्भदान को अनुभूति देति है। और इस मे पित के [[शुक्राणुओं]] का उपयोग करते है ताकि बच्चे को अपने वन्श क पत हो।
बौद्द धर्म इस प्रक्रिया को पूरी तरह स्वीकार किया है क्योकी बौद्द धर्म प्रसव को नैतिक कर्तव्यों मे से नहीं माना गया है।
22

सम्पादन