"समर्थ रामदास" के अवतरणों में अंतर

1,593 बैट्स् जोड़े गए ,  7 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
 
== तीर्थयात्रा और भारतभ्रमण ==
आत्मसाक्षात्कार होने के बाद समर्थ रामदास तीर्थयात्रा पर निकल पड़े| 12 वर्ष तक वे भारतवर्ष का भ्रमण करते रहे।घुमते घुमते वे हिमालय आये |हिमालय का पवित्र वातावरण देखने के बाद मूलतः विरक्त स्वभाव के रामदास जी के मन का वैराग्यभाव जागृत हो गया |अब आत्मसाक्षात्कार हो गया ,ईश्वर दर्शन हो गया ,तो इस देह को धारण करने की क्या जरुरत है ?ऐसा विचार उनके मन में आया |उन्होंने खुद को १००० फीट से मंदाकिनी नदी में झोंक दिया |लेकिन उसी समय प्रभुराम ने उन्हें ऊपर ही उठ लिया और धर्म कार्य करने की आज्ञा दी |अपने शरीर को धर्म के लिए अर्पित करने का निश्चय उन्होंने कर दिया |तीर्थ यात्रा करते हुए वे श्रीनगर आए| वहा उनकी भेंट सिखोंके के गुरु हरगोविंद जी महाराज से हुई |गुरु हरगोविंद जी महाराज ने उन्हें धर्म रक्षा हेतु शस्त्र सज्ज रहने का मार्गदर्शन किया | इस प्रवस में उन्होंने जनता की जो दुर्दशा देखी उससे उनका हृदय संतप्त हो उठा। उन्होंने मोक्षसाधना के साथ ही अपने जीवन का लक्ष्य स्वराज्य की स्थापना द्वारा आततायी शासकों के अत्याचारों से जनता को मुक्ति दिलाना बनाया। शासन के विरुद्ध जनता को संघटित होने का उपदेश देते हुए वे घूमने लगे। कश्मीर से कन्याकुमारी तक उन्होंने 1100 मठ तथा अखाड़े स्थापित कर स्वराज्यस्थापना के लिए जनता को तैयार करने का प्रयत्न किया। इसी प्रयत्न में उन्हें छत्रपति श्रीशिवाजी महाराज जैसे योग्य शिष्य का लाभ हुआ और स्वराज्यस्थापना के स्वप्न को साकार होते हुए देखने का सौभाग्य उन्हें अपने जीवनकाल में ही प्राप्त हो सका। उन्होंने शके 1603 में 73 वर्ष की अवस्था में महाराष्ट्र में सज्जनगढ़ नामक स्थान पर समाधि ली।
 
== शिष्यमंडळ ==
==ग्रन्थरचना==
समर्थ रामदास जी ने दासबोध,आत्माराम, मनोबोध आदि ग्रंथोंकिं रचना है । इसके साथ उनके द्वारा रची गयी ९० से अधिक आरतियाँ महारष्ट्र के घर घर में गायी जातीं हैं । आपने सैंकड़ो 'अभंग' भी लिखें हैं ।समर्थजी स्वयं अद्वैत वेदांति एवं भक्तिमार्गी संत थे किन्तु उन्होंने तत्कालीन समाज कि अवस्था देखकर ग्रंथोंमें राजनीती, प्रपंच,व्यवस्थापन शास्त्र, इत्यादि अनेको विषयोंका मार्गदर्शन किया है।समर्थ जी का प्रमुख ग्रन्थ 'दासबोध ' गुरुशिष्य संवाद रूप में है । यह ग्रंथराज उन्होनें अपने परमशिष्य योगिराज कल्याण स्वामी के हाथोंसे महाराष्ट्र के 'शिवथर घल (गुफा)' नामक रम्य एवं दुर्गम गुफा में लिखवाया ।
==कार्य==
समर्थ रामदास जी ने अपने शिष्योंके द्वारा समाज में एक चैतन्यदायी संगठन खड़ा किया । उन्होनें सतारा जिले में 'चाफल ' नाम के एक गाँव में भव्य श्रीराम मंदिर का निर्माण किया । यह मंदिर निर्माण केवल भिक्षा के आधार पर किया ।कश्मीर से कन्याकुमारी तक उन्होंने 1100 मठ तथा अखाड़े स्थापित कर स्वराज्यस्थापना के लिए जनता को तैयार करने का प्रयत्न किया। शक्ति एवं भक्ति के आदर्श श्री हनुमान जी कि मूर्तियां उन्होनें गाँव गाँव में स्थापित कि । आपने अपने सभी शिष्योंको विभिन्न प्रांतोंमें भेजकर भक्तिमार्ग तथा कर्मयोग कि सिख जनजन में प्रचारित करने कि आज्ञा कि ।समर्थ जी कि विचारधारा तथा कार्य का प्रभाव लोकमान्य तिलक,स्वातंत्र्यवीर सावरकर, डा. केशव बलिराम हेडगेवार आदि महान नेताओं पर था ।
 
== बाहरी कड़ियाँ ==
* [http://www.prabhasakshi.com/ShowArticle.aspx?ArticleId=120223-105103-320010 छत्रपति शिवजी के गुरु थे समर्थ स्वामी रामदास]
* [http://www.dasbodh.com/ दासबोध.कॉम ( फ्री डाउनलोड )]
* [http://www.yogirajkalyanswami.com/ कल्याण स्वामी के बारे में वेबसाईट]
* [http://www.samarthramdas400.in/eng/home.php समर्थ रामदास के बारे में वेबसाईट ]
* [http://www.dasbodha.org/ समर्थ वाग्देवता मंदिर, धुळे]
19

सम्पादन