"विलियम वर्द्स्वर्थ" के अवतरणों में अंतर

छो
सम्पादन सारांश रहित
छोNo edit summary
'''विलियम वर्द्स्व्र्थ''' (७ अप्रैल,१७७०-२३ अप्रैल, १८५०) एक प्रमुख रोमचक कवि थे, और उन्होने सेम्युल तेलर कोलरिज कि सहायता से अङ्रेज़ि सहित्य मे सयुक्त प्रकाशन गीतात्मक गथागीत के साथ रोमन्चक युग क आरम्भ किया। वर्द्स्वर्थ कि प्रसिध रचना 'द प्रेल्युद' हे जो कि एक अर्ध-आत्म चरितात्मक कवित माना जाता है। वर्द्स्वर्थ १८४३ से १८५० मे अप्नि म्रित्यु तक ब्रिटेन के महाकवि थे।
==विलियम वर्द्स्वर्थ==
विलियम वर्द्स्व्र्थ(७ अप्रैल,१७७०-२३ अप्रैल, १८५०) एक प्रमुख रोमचक कवि थे, और उन्होने सेम्युल तेलर कोलरिज कि सहायता से अङ्रेज़ि सहित्य मे सयुक्त प्रकाशन गीतात्मक गथागीत के साथ रोमन्चक युग क आरम्भ किया। वर्द्स्वर्थ कि प्रसिध रचना 'द प्रेल्युद' हे जो कि एक अर्ध-आत्म चरितात्मक कवित माना जाता है। वर्द्स्वर्थ १८४३ से १८५० मे अप्नि म्रित्यु तक ब्रिटेन के महाकवि थे।
 
===प्रारम्भिक जीवन===