"क्रीमिया" के अवतरणों में अंतर

3,238 बैट्स् जोड़े गए ,  7 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
छो (Bot: Migrating 1 interwiki links, now provided by Wikidata on d:Q7835)
== इतिहास ==
[[यूनानी]], [[स्किथी लोग|स्किथी]], [[गोथ]], [[हूण]], [[ख़ज़र लोग|ख़ज़र]], बुलगार, [[उसमानी साम्राज्य|उसमानी तुर्क]], [[मंगोल]] और बहुत से अन्य साम्राज्यों ने वक़्त-वक़्त पर क्रीमिया पर क़ब्ज़ा जमाया है। १८ वीं सदी के बाद इसपर [[रूसी साम्राज्य]] का अधिकार बन गया और फिर १९१७ की सोवियत क्रांति के बाद यह [[सोवियत संघ]] का हिस्सा बना। २० वीं सदी के अंत में [[युक्रेन]] आज़ाद हुआ और तब से यह उस राष्ट्र का हिस्सा है।<ref name="ref76pojor">[http://books.google.com/books?id=-485SAAACAAJ The Crimea: Its Ancient and Modern History: The Khans, the Sultans, and the Czars], Thomas Milner, BiblioBazaar, 2010, ISBN 978-1-146-97340-3</ref>
 
==क्रीमिया संकट==
{{मुख्य|२०१४ की युक्रेन क्राँति एवं क्रीमिया संकट}}
26 फरवरी 2014 को हथियारबंद रूस समर्थकों ने यूक्रेन के क्रीमिया प्रायद्वीप में संसद और सरकारी इमारतों पर को कब्जा कर लिया।<ref>{{cite web | url= http://hindi.economictimes.indiatimes.com/articleshow/31115001.cms| title= हथियाबंद प्रदर्शनकारियों के कब्जे में यूक्रेन की सरकारी बिल्डिंग| publisher = नवभारत टाईम्स| date= 27 फरवरी 2014| accessdate= 4 मार्च 2014}}</ref> २ मार्च को रूस की संसद ने भी राष्ट्रपति पुतिन के यूक्रेन में रूसी सेना भेजने के निर्णय का अनुमोदन कर दिया। <ref name="nbt-army">http://hindi.economictimes.indiatimes.com/world/europe/putin-gets-russian-parliament-approval-to-attack-ukraine/articleshow/31232126.cms रूसी संसद ने दी यूक्रेन में आर्मी भेजने की इजाजत</ref>इसके पीछे तर्क दियागया कि वहां रूसी मूल के लोग बहुतायत में हैं जिनके हितों की रक्षा करना रूस की जिम्मेदारी है।<ref name="nbt-7mar14">{{cite web | url= http://hindi.economictimes.indiatimes.com/india/national-india/---/articleshow/31552938.cms| title= रूस के साथ खड़ा है भारत| publisher = नवभारत टाईम्स| date= 7 मार्च 2014| accessdate= 7 मार्च 2014}}</ref> दुनिया भर में इस संकट से चिंता छा गई और कई देशों के राजनयिक अमले हरकत में आ गए।<ref>http://hindi.economictimes.indiatimes.com/world/europe/World-scrambles-as-Russia-tightens-grip-on-Crimea/articleshow/31348485.cms यूक्रेन संकट : दुनिया बोली रुको रूस</ref> 4 मार्च को रूस के राष्ट्रपति ने आँशिक रूप से यूक्रेन की सीमा पर युद्धाभ्यास रत सेनाएँ वापिस बुलाने की घोषणा कर दी, जिससे युद्ध का खतरा तो टल गया लेकिन क्रीमिया पर रूसी सैनिकों का कब्जा जारी रहा। <ref>http://hindi.economictimes.indiatimes.com/articleshow/31356242.cms पुतीन के यूटर्न के बाद सेंसेक्स 250 अंक चढ़ा, निफ्टी 6300 के करीब</ref>
 
== इन्हें भी देखें ==
9,327

सम्पादन