"विधिक समता" के अवतरणों में अंतर

2,367 बैट्स् जोड़े गए ,  7 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
(नया पृष्ठ: {{आधार}} '''विधिक समता''' (Equality before the law) एक सिद्धान्त है जिसके अनुसार कानू...)
 
{{आधार}}
[[चित्र:Place de la République - Égalité.jpg|right|thumb|300px|'''समता की मूर्ति''' (पेरिस)]]
'''विधिक समता''' (Equality before the law) एक सिद्धान्त है जिसके अनुसार कानून के सामने सभी लोग समान हैं। अर्थात् सभी लोगों पर समान कानून लागू होता है और उसी के अनुसार न्याय दिया जाना चाहिए।
 
कानूनी समानता का मतलब है कानून के सामने समानता और सबके लिए कानून की समान सुरक्षा। अवधारणा यह है कि सभी मनुष्य जन्म से समान होते हैं, इसलिए कानून के सामने समान हैसियत के पात्र हैं। कानून अंधा होता है और इसलिए वह जिस व्यक्ति से निबट रहा है उसके साथ कोई मुरौवत नहीं करेगा। वह बुद्धिमान हो या मूर्ख, तेजस्वी को या बुद्धू, नाटा हो या कद्दावर, गरीब हो या अमीर, उसके साथ कानून वैसा ही व्यवहार करेगा जैसा औरों के साथ करेगा। लेकिन उपवाद भी हैं। उदाहरण के लिए, किसी बालक या बालिका के साथ किसी वयस्क पुरुष या स्त्री जैसा व्यवहार नहीं किया जाएगा, और बालक या बालिका के साथ मुरौवत किया जाएगा।
 
दुर्भाग्यवश, कानूनी समानता का मतलब जरूरी तौर पर सच्ची समानता नहीं होती, क्योंकि जैसा कि हम सभी जानते हैं, कानूनी न्याय निःशुल्क नहीं होता, और धनवान व्यक्ति अच्छे से अच्छे [[वकील]] की सेवाएँ प्राप्त कर सकता है और कभी-कभी तो वह न्यायाधीशों को रिश्वत देकर भी अन्याय करके बच निकल सकता है।
 
[[श्रेणी:विधि]]