"भारत दुर्दशा" के अवतरणों में अंतर

आकार में कोई परिवर्तन नहीं ,  6 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
छो (Pushp9 (Talk) के संपादनों को हटाकर Utcursch के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
'''भारत दुर्दशा''' [[नाटक]] की रचना [[19751875]] इ. में [[भारतेन्दु]] हरिश्चन्द्र द्वारा की गई थी। इसमें भारतेन्दु ने प्रतीकों के माध्यम से [[भारत]] की तत्कालीन स्थिती का चित्रण किया है। वे भारतवासियों से भारत की दुर्दशा पर रोने और फिर इस दुर्दशा का अंत करने का प्रयास करने का आह्वान करते हैं। वे [[ब्रिटिश]] राज और आपसी कलह को भारत दुर्दशा का मुख्य कारण मानते हैं। तत्पश्चात वे [[कुरीतियाँ]], रोग, आलस्य, [[मदिरा]], अंधकार, [[धर्म]], [[संतो]]ष, अपव्यय, फैशन, सिफारिश, लोभ, भय, स्वार्थपरता, अतिवृष्टि, अनावृष्टि, अकाल, बाढ़ आदि को भी भारत दुर्दशा का कारण मानते हैं। लेकिन सबसे बड़ा कारण अंग्रेजों की भारत को लूटने की नीति को मानते हैं।
 
[[श्रेणी:हिन्दी नाटक]]
बेनामी उपयोगकर्ता