"कृष्ण" के अवतरणों में अंतर

22 बैट्स् नीकाले गए ,  6 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
टैग: मोबाइल संपादन
टैग: मोबाइल संपादन
द्वारिका शब्द में द्वार का अर्थ है- साधन, उपाय या प्रवेश मार्ग। समुद्र व्यक्तित्व के गहरे तल- आत्म क्षेत्र को इंगित करता है। अतः आत्म क्षेत्र का प्रवेश द्वार है द्वारिका। इस क्षेत्र में चेतना का प्रवेश होने पर जीवन जीने का जैसा स्वरूप होगा, उसका निरूपण द्वारिका पर श्रीकृष्ण राज्य के रूप में किया गया है। इस क्षेत्र का परिचय हमें महाभारत में श्रीकृष्ण के लोकहितार्थ और धर्मस्थापनार्थ किए गए कार्यों द्वारा तथा गीता के अंतर्गत उनकी वाणी द्वारा कराया गया है। सारांश यह कि व्यक्ति भी संकल्प करे तो उसकी चेतना भी कृष्ण सम विकसित हो सकती है।
श्रीकृष्ण जिनका नाम है , गोकुल जिनका धाम है!
ऐसे श्री भग्वान देव:कोटी को, बरम्बार प्रनाम है !!!!
 
== महाभारत ==
62

सम्पादन