"सापेक्ष कांतिमान": अवतरणों में अंतर

वर्तनी/व्याकरण सुधार
छो (Bot: Migrating 57 interwiki links, now provided by Wikidata on d:q124313 (translate me))
(वर्तनी/व्याकरण सुधार)
[[चित्र:65Cyb-LB3-apmag.jpg|thumb|250px|right|[[क्षुद्रग्रह]] [[६५ सिबअली]] और २ तारे जिनकें सापेक्ष कान्तिमान (apmag) लिखे गए हैं]]
'''सापेक्ष कांतिमान''' किसी [[खगोलीय वस्तु]] के [[पृथ्वी]] पर बैठे दर्शक द्वारा प्रतीत होने वाले [[चमकीलेपन]] को कहते हैं। सापेक्ष कान्तिमान को मापने ले लिए यह शर्त होती है केकि आकाश में कोई बादल, धूल, वग़ैराहवगैरा न हो और वह वस्तु साफ़ देखी जा सके। निरपेक्ष कांतिमान और सापेक्ष कांतिमान दोनों को मापने की इकाई "[[खगोलीय मैग्निट्यूड|मैग्निट्यूड]]" (magnitude) कहलाती है।
 
== सापेक्ष और निरपेक्ष कान्तिमान में अंतर ==
[[निरपेक्ष कान्तिमान]] किसी वस्तु की स्वयं की चमक का माप है और इसमें हमेशा यह देखा जाता है कीकि १० [[पारसॅक]] की मानक दूरी पर वह वस्तु कितनी रोशनरौशन लगती है। मिसाल के लिए अगर किसी [[तारे]] के निरपेक्ष कांतिमान की बात हो रही हो तो यह देखा जाता है केकि यदि देखने वाला उस तारे के ठीक १० [[पारसैक]] की दूरी पर होता (और उन दोनों के बीच में कोई [[खगोलीय धूल]] वग़ैराह न हो) तो वह तारा कितना चमकीला लगता। इस तरह से "निरपेक्ष कांतिमान" और "सापेक्ष कांतिमान" में गहरा अंतर है। अगर कोई तारा [[सूरज]] से बीस गुना ज़्यादा मूल चमक रखता हो लेकिन सूरज से हज़ार गुना दूर हो तो पृथ्वी पर बैठे किसी दर्शक के लिए सूरज का सापेक्ष कांतिमान अधिक होगा, हालांकि दुसरेदूसरे तारे का निरपेक्ष कांतिमान सूरज से अधिक है।
 
== अन्य भाषाओं में ==