"विकिपीडिया वार्ता:मुखपृष्ठ निर्वाचित चित्र" के अवतरणों में अंतर

(→‎टिप्पणी: मनोज जी की टिप्पणियों के उत्तर)
मेरे विचार में यहाँ दो अलग अलग प्रश्न हैं और उनके लिए नियमावली के दो अलग हिस्से करने चाहिएं- १- चित्र का निर्वाचन २-मुखपृष्ठ पर प्रदर्शन
 
- चित्र का निर्वाचन्- यदि चित‌‌्र पहले से ही कॉमन्स पर निर्वाचित है तो इसकी आवश‌्यकता नहीं। यदि नहीं है तो नई नियमावली बनाई जाए ताकि यहाँ निर्वाचन किया जा सके। वर्तमान नियमावली की नियम संख्या 1 को हटाकर ये नियमावली बनाई जाए। नियम संख्या , , भी इस नियमावली में रखे जा सकते हैं।
 
- मुखपृष्ठ प्रदर्शन- कॉमन्स का निर्वाचित चित्र है तो नियम 2 से 5 ठीक हैं। यदि चित्र यहाँ निर्वाचित हुआ है तो 3, ,4 पर बात हो चुकी होगी। नियम 25 इस नियमावली में होंगे।
 
- इसके अतिरिक्त नियम २ में विस्तार करने का मेरा सुझाव है। हमारा उद्देश्य है कि पाठक चित्र देखकर विकि में जितना गहरा उतर सके उतना अच्छा। अतः मेरे विचार से लेख में कम से कम 4-5 अन्य लेखों की कड़ियाँ होना आवश्यक कर देना चाहिए। --<font color="orange">&#9742;</font>[[u:Manojkhurana|<u><b><font color="green">मनोज खुराना</font></b></u>]] <sup> [[user talk:Manojkhurana| <b><font color="orange">वार्ता </font> </b>]] </sup> 08:37, 26 जून 2014 (UTC)
::* नियम २ के विस्तार की बात आती है तो उसमें हमें पहले एक लेख से आरम्भ करना चाहिए। जब हम अगले ३-४ माह के लिए चित्र निश्चित कर देंगे तो इसका विस्तार करके दो लेख तक पहुँचना चाहिए। यदि हम शुरुआत में ही ४ से आरम्भ करेंगे तो मुखपृष्ठ पर चित्रों को लाना मुश्किल हो जायेगा।
::माला जी, आप भी मेरी टिप्पणियों से अपनी आपत्ति लिख सकतीं हो।<span style="color:green;">☆★</span>[[u:संजीव कुमार|<u>'''<span style="color:Magenta;">संजीव कुमार</span>'''</u>]] ([[User talk:संजीव कुमार|<span style="color:blue;">✉✉</span>]]) 12:58, 26 जून 2014 (UTC)
::{{सुनो|संजीव कुमार|mala chaubey}}- संजीव जी आपके इस तर्क से मैं सहमत हुँ तथा मेरे प्रश्न का 90% समाधान इस तर्क से हो गया कि यदि चित्र कॉमन्स पर निर्वाचित ना हो तो उसे यहाँ की बजाय वहीं नामाँकित किया जाए। अब 10% समस्या बचती है एसे चित्रों की जो कॉमन्स पर न हों लेकिन हिंदी विकि पर हों जैसे कि गैर मुक्त उचित उपयोग आदि। इन चित्रों के लिए क्या नियम हैं? और हाँ, नियम २ में मैंने मुख्य लेख में मौजूद कड़ियों की संख्या की बात की है, लेखों की नहीं। किसी भी लेख में ४-५ कइ़ियाँ तो भूमिका की दो पंक्तियों में ही मिल जाती हैं। फिर भी कम से कम दो तो अवश्य ही होनी चाहिएँ ताकि पाठक को एक से दूसरे, दूसरे से तीसरे लेख तक पहुँचाया जा सके। --<font color="orange">&#9742;</font>[[u:Manojkhurana|<u><b><font color="green">मनोज खुराना</font></b></u>]] <sup> [[user talk:Manojkhurana| <b><font color="orange">वार्ता </font> </b>]] </sup> 10:29, 27 जून 2014 (UTC)