"विद्युत्-चुम्बकीय प्रेरण" के अवतरणों में अंतर

सम्पादन सारांश रहित
(नया पृष्ठ: {{आधार}} किसी चालक को किसी परिवर्ती चुम्बकीय क्षेत्र में रखने पर उ...)
 
{{आधार}}
किसी चालक को किसी परिवर्ती चुम्बकीय क्षेत्र में रखने पर उस चालक के सिरों के बीच [[विद्युतवाहक बल]] उत्पन्न होने को '''विद्युत्-चुम्बकीय प्रेरण''' (Electromagnetic induction) कहते हैं। उत्पन्न विद्युत्वाहक बल का मान गणितीय रूप से [[फैराडे का प्रेरण का नियम]] द्वारा द्वारा दिया जाता है। प्रायः माना जाता है कि [[फैराडे]] ने ही १८३१ में विद्युत्चुम्बकीय प्रेरण की खोज की थी।
 
:<math> \mathcal{E} = -{{d\Phi_B} \over dt}</math> ,
जहाँ:
:<math>\mathcal{E}</math> उत्पन्न ईएमएफ (वोल्ट में)
:&Phi;<sub>B</sub> चालक द्वारा घेरे गये क्षेत्र का सम्पूर्ण चुम्बकीय फ्लक्स
 
[[श्रेणी:विद्युत]]