"तृषा कृष्णन" के अवतरणों में अंतर

1,675 बैट्स् जोड़े गए ,  6 वर्ष पहले
लेख का विस्तार किया
(लेख का विस्तार किया)
(लेख का विस्तार किया)
सबसे पहले वो [[फाल्गुनी पाठक]] के गाने "मेरी चुनर उड़-उड़ जाए" में दिखी थी, [[आयशा टाकिया]] की सहेली के रूप में। सबसे पहली फ़िल्म उनकी ''जोड़ी'' नामक तमिल फ़िल्म थी जिसमें उनका किरदार श्रेयरहित था।<ref name="जन्मदिन"></ref> बाद में [[प्रियदर्शन]] ने अपनी तमिल फिल्म ''लेसा लेसा'' में एक अभिनय भूमिका के लिए तृषा से संपर्क किया था।<ref>{{cite web|title=तृषा ने प्रियदर्शन का शुक्रिया अदा किया|date=14 जुलाई 2009|accessdate=6 अगस्त 2014|publisher=[[वन इंडिया डॉट इन]]|url=http://hindi.oneindia.in/movies/bollywood/gossip/2009/07/trisha-thanks-priyadarshan-for-ticket-to-bollywood.html}}</ref> तथापि यह फ़िल्म गंभीर रूप से लम्बी खिच गई, इसलिए 2002 की तमिल फ़िल्म ''मौनम पेसीयाडे'' उनकी मुख्य भूमिका वाली पहली फ़िल्म थी। 2003 की फ़िल्म ''सामी'', [[विक्रम (अभिनेता)|विक्रम]] के विपरीत जिसमें उन्होनें तमिल [[ब्राह्मण]] लड़की का किरदार निभाया था, तृषा की सबसे पहली सफल फ़िल्म थी।<ref name="जन्मदिन"></ref>
 
2004 में उन्होनें [[तेलुगू]] सिनेमा में कदम रखा, ''वर्षम्'' से जिसने उन्हें रातोंरात सनसनी बना दिया। उनके द्वारा निभाया गया किरदार, एक मध्यवर्गीय लड़की जो अपने पिता के आग्रह पर एक फिल्म स्टार बन जाती हैं को काफ़ी सराहा गया।<ref>{{cite web|title=Movie Review Varsham|trans_title= फ़िल्म समीक्षा वर्षम्|date=|accessdate=9 अगस्त 2014|publisher=सिफ़ी|language=अंग्रेज़ी|url=http://www.sify.com/movies/varsham-review-telugu-13365103.html}}</ref> तृषा को अपने प्रदर्शन के लिए दूसरों के अलावा फिल्मफेयर पुरस्कार दक्षिण में सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री (तेलुगू) का पुरस्कार मिला।<ref name="जन्मदिन"></ref> उनकी अगली फ़िल्म ''गिल्ली'' नाम की तमिल फ़िल्म थी जिसमें वो [[जोसेफ़ विजय|विजय]] के विपरीत थी। फ़िल्म 2004 की सबसे बड़ी हिट साबित हुई।<ref name="जन्मदिन"></ref>
 
आगे के वर्षों में तृषा की कई फ़िल्में आई पर उनमें उनके द्वारा निभाए गए किरदार उनके पुरुष सहकर्मियों के आगे दब गए और उनका काम सीमित था। 2005 फ़िल्म नुव्वोस्टनन्टे नेनोड्ड्न्टन उनकी दूसरी तेलुगू फ़िल्म थी। फ़िल्म [[प्रभु देवा]] के द्वारा निर्देशित करी पहली फ़िल्म थी जिसमें [[सिद्धार्थ (अभिनेता)|सिद्धार्थ]] मुख्य अभिनेता थे। तृषा द्वारा निभाई गई गाँव की लड़की की भूमिका के लिए उन्हें लगातार दूसरा सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री (तेलुगू) का फिल्म फेयर अवार्ड मिला और सबसे पहला नंदी पुरस्कार।<ref name="जन्मदिन"></ref> फिल्म ने अंततः आठ दक्षिणी फिल्मफेयर पुरस्कार सुरक्षित किए, किसी तेलुगु फिल्म द्वारा सबसे ज़्यादा, जबकि फ़िल्म बॉक्स ऑफिस पर भी बेहद सफल बनकर उभरी।
==सन्दर्भ==