"तुम ही हो" के अवतरणों में अंतर

153 बैट्स् जोड़े गए ,  7 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
तुझे पाके अधूरा ना रहा
क्यों की तुम ही हो
</poem>|source = '''गीतकार मिथुन"'''<ref>http://www.lyricsmint.com/2013/03/tum-hi-ho-aashiqui-2.html</ref>}}
 
==सन्दर्भ==
{{टिप्पणीसूची}}
{{आधार}}
 
 
[[श्रेणी:गीत]]