"प्राकृतिक भाषा संसाधन" के अवतरणों में अंतर

==चुनौती==
कम्प्यूटर द्वारा प्राकृतिक भाषा संसाधन करने में प्रमुख कठिनाइयाँ हैं-
# '''संदिग्धता''' : मानव भाषाओं में विभिन्न भाषिक स्तरों पर संदिग्धता पाई जाती है, जैसे- शब्द स्तर पर एक शब्द का एक से अधिक शब्दवर्गों में प्रयोग, जैसे - 'सोना' शब्द संज्ञा भी है और क्रिया भी।
# '''संदिग्धता'''
# '''शब्दों के आरम्भ और अन्त का सही पता लगाने की समस्या''' - बोली गयी भाषा में प्रायः शब्दों की सीमा का थीक-ठीक निर्धारण करना कठिन होता है। कुछ लिखित भाषाओं (जैसे [[मन्दारिन]]) में शब्दों के बीच जगह नहीं छोड़ी जाती जिससे शब्दों की सीमा का ठीक से पता करना और उन्हें अलग करना कठिन है।
# '''गलत आंकड़े''' - इसके अलावा शब्दों के टंकण की गलती, गलत वर्तनी, गलत उच्चारण, [[ओसीआर]] से प्राप्त टेक्स्ट में गलती आदि से भी सही शब्दों का पता नहीं चल पाता।
बेनामी उपयोगकर्ता