"ब्यास नदी" के अवतरणों में अंतर

2 बैट्स् नीकाले गए ,  6 वर्ष पहले
छो
सन्दर्भ की स्थिति ठीक की।
छो (सन्दर्भ की स्थिति ठीक की।)
| watershed = 20.303
| watershed_imperial =
| discharge_location = [[मंडी]] की तराई <ref>{{cite web
| title = Mandi Plain
| publisher = ORNL
ब्यास नदी का पुराना नाम ‘अर्जिकिया’ या ‘विपाशा’ था। यह [[कुल्लू]] में व्यास कुंड से निकलती है। व्यास कुंड पीर पंजाल पर्वत शृंखला में स्थित रोहतांग दर्रे में है। यह [[कुल्लू]], [[मंडी]], [[हमीरपुर]] और [[कांगड़ा]] में बहती है। कांगड़ा से मुरथल के पास पंजाब में चली जाती है। [[मनाली]], [[कुल्लू]], बजौरा, औट, पंडोह, [[मंडी]], सुजानपुर टीहरा, नादौन और देहरा गोपीपुर इसके प्रमुख तटीय स्थान हैं। इसकी कुल लंबाई 460 कि.मी. है। हिमाचल में इसकी लंबाई 260 कि.मी. है। कुल्लू में पतलीकूहल, पार्वती, पिन, मलाणा-नाला, फोजल, सर्वरी और सैज इसकी सहायक नदियां हैं। कांगड़ा में सहायक नदियां बिनवा न्यूगल, गज और चक्की हैं। इस नदी का नाम महर्षि ब्यास के नाम पर रखा गया है। यह प्रदेश की जीवनदायिनी नदियों में से एक है।
==स्थिति==
इस नदी का उद्गम मध्य [[हिमाचल प्रदेश]] में, वृहद [[हिमालय]] की जासकर पर्वतमाला के रोहतांग दर्रे पर 4,361 मीटर की ऊंचाई से होता है। यहाँ से यह [[कुल्लू ]] घाटी से होते हुये दक्षिण की ओर बहती है। जहां पर सहायक नदियों को अपने में मिलाती है। फिर यह पश्चिम की ओर बहती हुई [[मंडी]] नगर से होकर [[कांगड़ा]] घाटी में आ जाती है। घाटी पार करने के बाद ब्यास [[पंजाब]] में प्रवेश करती है व दक्षिण दिशा में घूम जाती है और फिर दक्षिण-पश्चिम में यह 470 कि.मी. बहाने के बाद आर्की में [[सतलुज नदी]] में जा मिलती है। व्यास नदी 326 ई. पू. में [[सिकंदर महान]] के भारत आक्रमण की अनुमानित पूर्वी सीमा थी। <ref>भारत ज्ञानकोश, खंड-5,पॉप्युलर प्रकाशन मुंबई, पृष्ठ संख्या-247, आ ई एस बी एन 81-7154-993-4</ref>
 
==नामोल्लेख==