"ख़ालसा" के अवतरणों में अंतर

1 बैट् जोड़े गए ,  6 वर्ष पहले
छो
कोष्टक से पहले खाली स्थान छोड़ा।
छो (बॉट से अल्पविराम (,) की स्थिति ठीक की।)
छो (कोष्टक से पहले खाली स्थान छोड़ा।)
खंडा बाटा, जंत्र मंत्र और तंत्र के स्मेल से बना है | इसको पहली बार सतगुर गोबिंद सिंह ने बनाया था |
 
* जंत्र : बाटा (बर्तन) और दो धारी खंडा
* मंत्र : ५ बानियाँ - जपु साहिब, जाप साहिब, त्व प्रसाद सवैये, चोपाई साहिब, आनंद साहिब
* तंत्र : मीठे पतासे डालना, बानियों को पढ़ा जाना और खंडे को बाटे में घुमाना