"काव्यमीमांसा": अवतरणों में अंतर

1 बाइट हटाया गया ,  8 वर्ष पहले
छो
पूर्णविराम (।) से पूर्व के खाली स्थान को हटाया।
No edit summary
छो (पूर्णविराम (।) से पूर्व के खाली स्थान को हटाया।)
 
काव्यमीमांसा में प्रत्यक्षकवि (समसामयिक कवि) के बारे में कहा है-
:''प्रत्यक्षकविकाव्यं च रूपं च कुलयोषितः ।कुलयोषितः।''
:''गृहवैद्यस्य विद्या च कस्यैचिद्यदि रोचते ॥''