"घूर्णाक्षदर्शी": अवतरणों में अंतर

आकार में कोई परिवर्तन नहीं ,  7 वर्ष पहले
छो
बॉट से अल्पविराम (,) की स्थिति ठीक की।
छोNo edit summary
छो (बॉट से अल्पविराम (,) की स्थिति ठीक की।)
किसी पिंड पर जब कोई बलयुग्म कार्य करता है, तब उस पिंड में बलयुग्म (couple) के अक्ष के चारों ओर एक कोणीय संवेग उत्पन्न हो जाता है, जिसके कारण पिंड में उस अक्ष के चारों और भ्रमि करने की प्रवृत्ति उत्पन्न हो जाती है। जितने समय तक वह बलयुग्म कार्य करता रहेगा उतने समय तक उस पिंड का कोणीय वेग बढ़ता ही जायगा।
 
मान लिया, एक भारी चक्र (या पहिया) एक क्षैतिज धुरी क ख पर नर्तन (भ्रमि) कर रहा है। धुरी के दोनों सिरों पर दो बल F और F इस प्रकार कार्य कर रहे हैं कि उनसे एक बलयुग्म का निर्माण होता है। इससे उत्पन्न होने वाला बलघूर्ण '''G = F ´ 1''', जहाँ '''1''' अक्ष क ख की लंबाई है। इसके परिणामस्वरूप यह संपूर्ण प्रणाली एक अन्य लांबिक अक्ष के चारों ओर पुरस्सृत (precess) होने लगेगी। यदि चक्र के परिभ्रमण का वेग '''w''' तथा पुरस्सरण की दर '''w ¢''' हो तो '''G = I ´ w ´ w ¢''' , जहाँ '''I''' उस चक्र का नर्तन अक्ष के चारों ओर अवस्थितित्व, या [[जड़त्वाघूर्ण]] (moment of Inertia), है। अत: यदि चक्र का कोणीय संवेग '''I ´ w''' काफी अधिक होगा तो '''w ¢''' का मान बहुत कम होगा।
 
इससे स्पष्ट है कि बहुत अधिक जड़त्वाघूर्णवाला चक्र (जैसे [[गतिपालक चक्र]] या [[फ्लाई-ह्वील]]) यदि किसी अक्ष के चारों ओर बहुत तेजी से परिभ्रमण कर रहा हो, तो उस पर किसी बाहरी अल्पकालिक बलघूर्ण, '''G''', का प्रभाव अत्यंत क्षीण पड़ेगा, अर्थात् विघ्नकारी बाह्य बलों से वह व्यवहारात: अप्रभावित रहेगा। कोणीय संवेग अधिक हो इस हेतु काफी अधिक व्यासवाला गतिपालक चक्र (फ्लाई-ह्वील) घूर्णाक्षस्थापी में प्रयुक्त किया जाता है। इसके अतिरिक्त भ्रमि वेग '''w''' बढ़ाकर भी घूर्णक्षस्थापी के कोणीय संवेग में बहुत अधिक सीमा तक वृद्धि की जा सकती है इससे घूर्णक्षस्थापी पर किसी अल्पायु बाह्य बलयुग्म का प्रभाव नहीं पड़ सकता।