"ज्यां-पाल सार्त्र": अवतरणों में अंतर

छो
पूर्णविराम (।) से पूर्व के खाली स्थान को हटाया।
छोNo edit summary
छो (पूर्णविराम (।) से पूर्व के खाली स्थान को हटाया।)
 
 
ज्यां-पाल सार्त्र [[अस्तित्ववाद]] के पहले विचारकों में से माने जाते हैं ।हैं। वह बीसवीं सदी में फ्रान्स के सर्वप्रधान दार्शनिक कहे जा सकते हैं ।हैं। कई बार उन्हें अस्तित्ववाद के जन्मदाता के रूप में भी देखा जाता है ।है।
 
अपनी पुस्तक "ल नौसी" में सार्त्र एक ऐसे अध्यापक की कथा सुनाते हैं जिसे ये इलहाम होता है कि उसका पर्यावरण जिससे उसे इतना लगाव है वो बस किञचित् निर्जीव और तत्वहीन वस्तुइएँ से निर्मित है। किन्तु उन निर्जीव वस्तुओं से ही उसकी तमाम भावनाएँ जन्म ले चुकी थीं।