मुख्य मेनू खोलें

बदलाव

आकार में कोई परिवर्तन नहीं ,  5 वर्ष पहले
छो
बॉट से अल्पविराम (,) की स्थिति ठीक की।
* क़यामत और हिसाब और किताब यानी हयात बाद बाद अल मौत पर विश्वास।
* नमाज़, रोज़ा, ज़कात और उसके (जो नये बूते रखता हो) की फ़र्ज़ियत पर विश्वास।
* फ़रिशतों , पूर्व अम्बिया और पुस्तकों पर विश्वास।
 
उपरोक्त बातों पर विश्वास करने को मुसलमान कहते हैं। उनके अलावा अन्य मतभेद फरोइई और राजनीतिक हैं।