"रिकी पोंटिंग" के अवतरणों में अंतर

आकार में कोई परिवर्तन नहीं ,  5 वर्ष पहले
छो
बॉट से अल्पविराम (,) की स्थिति ठीक की।
छो (बॉट से अल्पविराम (,) की स्थिति ठीक की।)
==रिकी पोंटिंग ==
== कैरियर==
रिकी थॉमस पॉन्टिंग , एओ ( जन्म 19 दिसंबर 1974 ) को पंटर का उपनाम दिया गया था. एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में २००२ से २०११ तक वे ऑस्ट्रेलिया के कप्तान रहे. टेस्ट क्रिकेट मे २००४ और २०११ के बीच ऑस्ट्रेलिया की राष्ट्रीय क्रिकेट टीम की उन्होंने कमान सम्भाली. वे ऑस्ट्रेलिया के दिग्गज क्रिकेटरों में माने जाते हैं. वे एक विशेषज्ञ दाएं हाथ के बल्लेबाज थे, साथ ही एक बहुत ही सामयिक गेंदबाज भी. उन्होंने २००३ और २००७ के क्रिकेट विश्व कप की जीत में ऑस्ट्रेलिया का नेतृत्व किया और 1999 के विश्व कप में स्टीव वॉ की विजेता टीम के सदस्य भी रहे.
    उन्हें आलोचकों द्वारा व्यापक रूप से भारत के सचिन तेंदुलकर और वेस्टइंडीज के ब्रायन लारा के साथ साथ, आधुनिक युग के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों में से एक माना जाता है. १ दिसंबर २००६ को उन्होंने पिछले 50 साल में एक टेस्ट बल्लेबाज द्वारा हासिल उत्तम रेटिंग प्राप्त की. २०१० के प्रारम्भ में वे क्रिकइंफो द्वारा पिछले दशक के सर्वोच्च क्रिकेटर चुने गए. वे १०० टेस्ट जीतने वाले इतिहास के पहले और एकलौते खिलाड़ी हैं.
      160 से अधिक टेस्ट और 375 एकदिवसीय मैचों में शामिल होने के बाद पोंटिंग टेस्ट और वनडे क्रिकेट में ऑस्ट्रेलिया के प्रमुख रन गणक हैं . वह 13,000 टेस्ट रन बनाने वाले (सचिन तेंडुलकर , राहुल द्रविड़ और जैक कैलिस के साथ) इतिहास के केवल चार खिलाड़ियों में से एक है . वह २००४ और ३१ दिसंबर २०१० के बीच 77 टेस्ट मैचों में 48 जीत के साथ सब समय के सबसे सफल कप्तानों में से एक हैं . एक खिलाड़ी के रूप में, रिकी पोंटिंग 107 टेस्ट जीतों में शामिल रहे. पोंटिंग का 262 जीतों के साथ एक खिलाड़ी के रूप में सबसे अधिक जीतों में शामिल होने का अंतराष्ट्रीय एकदिवसीय क्रिकेट रिकॉर्ड है. 29 नवंबर, २०१२ को रिकी ने संन्यास की घोषणा की. दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पर्थ में खेला जाने वाला श्रंखला का तीसरा और आखिरी मुकाबला उनके अंतराष्ट्रीय कैरियर का आखिरी मुकाबला था. दक्षिण अफ्रीका ने जीत हासिल कर श्रंख्ला अपने नाम करी और रिकी के १७ वर्षीय कैरियर का समापन किया. रिकी ने स्टीव वॉघ द्वारा बनाये ऑस्ट्रेलिया के लिए अधिकतम टेस्ट खेलने के रिकॉर्ड की अपना आखिरी टेस्ट खेलते हुए बराबरी करी. रिकी पोंटिंग 51.85 के टेस्ट बल्लेबाजी औसत के साथ 3 दिसंबर 2012 को संन्यास लेते हुए क्रिकेट से दूर हुए. उन्होंने दुनिया भर में क्रिकेट खेलना जारी रखा. मुम्बई इंडियंस ने २०१३ आईपीएल के लिए रिकी को अपना कप्तान घोषित किया तथा उस वर्ष की आईपीएल प्रतियोगिता जीती. मार्च 2013 में रिकी कैरेबियाई प्रीमियर लीग के लिए पहले अंतरराष्ट्रीय मताधिकार खिलाड़ी के रूप में घोषित हुए. नॉट्स के खिलाफ सरे के लिए अपनी अंतिम प्रथम श्रेणी पारी में उन्होंने एक शानदार नाबाद १६९ रन बनाये तथा इसके साथ ही अपने प्रथम श्रेणी कैरियर को ८२ शतकों के साथ अलविदा कहा. इसके बाद उन्होंने हर तरह के क्रिकेट से संन्यास ले लिया.