"सरस्वती" के अवतरणों में अंतर

आकार में कोई परिवर्तन नहीं ,  15 वर्ष पहले
छो
 
==सरस्वती देवी==
सरस्वती को वेदों में देवी कहा गया है और बहने की वजह से इसे वाक्-देवी माना गया । इस तरह सरस्वती बहते हुए शुद्ध जल के माफ़िक वाणी, ज्ञान, बुद्धि, विज्ञान और संगीत की देवी हो गयीं । बाद की पौराणिक कहानियों में इनको [[ब्रह्मा]] की बेटी मान लिया गया । [[ब्रह्मा]] द्वारा व्यभिचार किये जाने के कारण बाद में वह [[ब्रह्मा]] की पत्नी बन गयी। [[ब्रह्मा]] इनका वाहन [[हंस]] माना जाता है और इनके हाथों में [[वीणा]], [[वेद]] और [[माला]] होती है । हिन्दू कोई भी पाठ्यकर्म के पहले इनकी पूजा करते हैं ।
 
[[श्रेणी:देवी-देवता]]
15

सम्पादन