"इथेनॉल" के अवतरणों में अंतर

2 बैट्स् जोड़े गए ,  5 वर्ष पहले
छो
बॉट: अंगराग परिवर्तन
छो (बॉट: अंगराग परिवर्तन)
*'''५. निर्जीव धोवन''' - आसवन द्वारा ऐल्काहल को धोवन (वाश) में से अलग करने के बाद जो शेष द्रव तलछट के रूप में बच रहता है उसे निर्जीव धोवन कहते हैं। स्टार्चमय पदार्थों की चर्बी तथा प्रोटीन का अधिकांश भाग अविघटित रूप में निर्जीव धोवन में रहता है, इसलिए यह जानवरों के पौष्टिक चारे के लिए उपयोग में आता है।
 
== उपयोगिता ==
उद्योग में एथिल ऐल्कोहल की उपयोगिता इसकी अत्युत्तम विलेयक शक्ति के कारण है। इसका उपयोग [[वार्निश]], [[पालिश]], दवाओं के घोल तथा निष्कर्ष, [[ईथर]], [[क्लोरोफ़ार्म]], [[कृत्रिम रंग]], पारदर्शक साबुन, [[इत्र]] तथा फल की सुगंधों का निष्कर्ष और अन्य रासायनिक यौगिक बनाने में होता है। पीने के लिए विभिन्न मदिराओं के रूप में, घावों को धोने में जीवाणुनाशक के रूप में तथा प्रयोगशाला में घोलक के रूप में इसका उपयोग होता है। पीने को औषधियों में यह डाला जाता है और मरे हुए जीवों को संरक्षित रखने में भी इसका उपयोग होता है। [[रेआन ऐसिटेट]] उद्योग के लिए [[ऐसीटिक अम्ल]] की पूर्ति मैंगनीज़ पराक्साइड तथा सल्फ़्यूरिक अम्ल की उपस्थिति में ऐल्कोहल का आक्सीकरण करके होती है, क्योंकि यह क्रिया शीघ्र होती है और इससे ऐसीटिक अम्ल तथा ऐसिटैल्डिहाइड प्राप्त होते हैं। [[स्पिरिट लैंप]] तथा स्टोव में और मोटर इंजनों में पेट्रोल के साथ इसको ईंधन के रूप में जलाते हैं। इसके अधिक उड़नशील न होने के कारण मोटर को चलाने में कठिनाई न हो इस उद्देश्य से इसमें २५% ईथर या [[पेट्रोल]] मिलाते हैं।