"सिक्का" के अवतरणों में अंतर

आकार में कोई परिवर्तन नहीं ,  5 वर्ष पहले
छो
बॉट से अल्पविराम (,) की स्थिति ठीक की।
छो (सन्दर्भ की स्थिति ठीक की।)
छो (बॉट से अल्पविराम (,) की स्थिति ठीक की।)
अधिकतर मुद्राशास्त्री, इन वस्तुओं के अलावा चीनी कांस्य को भी जो चाकू, कुदाल और हुत के प्रतीक थे, सिक्के के बजाय धन मानते थे क्योंकि इन पर कम से कम शुरूआत में ऐसे कोई निशान नहीं थे जो इनके एक निश्चित मूल्य को सिद्ध करते हों.<ref>जी डेविस, धन का एक इतिहास: प्राचीन काल से वर्तमान दिन के लिए, वेल्स प्रेस, कार्डिफ विश्वविद्यालय, 1994, पीपी 54-57, 62.</ref>
 
अनातोलिया और चीन के साथ साथ, भारत भी सिक्के के विकास में एक प्रमुख भूमिका निभाता था. पहले भारतीय सिक्के 6ठी शताब्दी ईसा पूर्व सिन्धु-गंगा मैदान [[महाजनपद]] द्वारा [[टकसाल|मुद्रित]] किए गए. इस अवधि के सिक्के चिह्नित थे जिन्हें ''पुराण'' , ''कर्शपानस'' या ''पाना'' कहा गया.{{Citation needed|date=January 2009}} महाजनपद ने अपने सिक्के ढाले जिनमें [[गांधार (जनपद)|गांधार]],<ref>पंकजटंडन http://home.comcast.net/ ~ / दीर्घाओं-gandhara.html 2007/06/03 पहुंचा</ref> कुंतला,<ref>पंकजटंडन http://home.comcast.net/ ~ / दीर्घाओं-kuntala.html 2007/06/03 पहुंचा</ref> [[कुरु]],<ref>पंकजटंडन http://home.comcast.net/ ~ / दीर्घाओं-kuru.html 2007/06/03 पहुंचा</ref> [[पांचाल|पंचला]],<ref>पंकजटंडन http://home.comcast.net/ ~ / दीर्घाओं-panchala.html 2007/06/03 पहुंचा</ref> [[शाक्य]],<ref>पंकजटंडन http://home.comcast.net/ ~ / दीर्घाओं-shakya.html, 2007/06/03 पहुंचा</ref> [[सुरसेन|सुरसेना]]<ref>2007/06/03 http://home.comcast.net/ पहुंचा ~ दीर्घाओं-shurasena.html / पंकजटंडन.</ref> और सुराष्ट्र<ref name="home.comcast.net">पंकजटंडन http://home.comcast.net/ ~ / दीर्घाओं-surashtra.html 2007/06/03 पहुंचा</ref> शामिल थे.<ref name="home.comcast.net"/>
 
प्रारंभिक [[सोना|सोने]] और [[चाँदी|चांदी]] के सिक्के अल्यात्तेस के पुत्र लिडिया के क्रोएसुस ने बनाए थे. उसके बाद शीघ्र ही उसी क्षेत्र के फारस के [[हख़ामनी साम्राज्य|अचेमेनिद साम्राज्य]] ने सोने के "दरिक्स" और चांदी के "सिग्लोई" जारी किए.