"कामन्दकीय नीतिसार" के अवतरणों में अंतर

छो
बॉट: अंगराग परिवर्तन
छो (बॉट: अंगराग परिवर्तन)
'''कामंदकीय नीतिसार''' [[राजनीति|राज्यशास्त्र]] का एक [[संस्कृत]] ग्रंथ है। इसके रचयिता का नाम 'कामंदकि' अथवा 'कामंदक' है जिससे यह साधारणत: 'कामन्दकीय' नाम से प्रसिद्ध है। वास्तव में यह ग्रंथ [[कौटिल्य]] के [[अर्थशास्त्र ग्रन्थ|अर्थशास्त्र]] के सारभूत सिद्धांतों (मुख्यत: राजनीति विद्या) का प्रतिपादन करता है। यह श्लोकों में रूप में है। इसकी भाषा अत्यन्त सरल है।
 
== रचनाकाल ==
इसके रचनाकाल के विषय में कोई स्पष्ट प्रमाण उपलब्ध नहीं है। [[विंटरनित्स]] के मतानुसार किसी कश्मीरी कवि ने इसकी रचना ईस्वी ७००-७५० के बीच की। डा. [[राजेन्द्रलाल मित्र]] का अनुमान है कि ईसा के जन्मकाल के लगभग [[बाली द्वीप]] जानेवाले आर्य इसे [[भारत]] से बाहर ले गए जहाँ इसका '[[कवि भाषा]]' में अनुवाद हुआ। बाद में यह ग्रंथ [[जावा]] द्वीप में भी पहुँचा। छठी शताब्दी के कवि [[दण्डी]] ने अपने '[[दशकुमारचरित]]' के प्रथम उच्छ्वास के अंत में 'कामंदकीय' का उल्लेख किया है।
 
कामंदक की प्राचीनता का एक और प्रमाण भी दृष्टिगोचर होता है। कामंदकीय नीतिसार की मुख्यत: पाँच टीकाएँ उपलब्ध होती हैं : उपाध्याय निरक्षेप, आत्मारामकृत, जयरामकृत, वरदराजकृत तथा शंकराचार्यकृत।
 
== संरचना ==
 
कामन्दकीय नीतिसार में कुल मिलाकर २० सर्ग (अध्याय) तथा ३६ प्रकरण हैं।
*'''बीसवाँ सर्ग''' : गजदल, अश्वदल, रथदल व पैदल की रचना व नियुक्ति
 
== बाहरी कड़ियाँ==
*[https://archive.org/details/kamandakiyaniti00kmgoog Kamandakiya Nitisara; Or, The Elements of Polity, in English]
*[http://spiritualsbooks.blogspot.in/2011/06/nitisara-by-kamandaki-sanskrit-text.html The Nitisara by Kamandaki: Sanskrit Text with English Translation]