"केशवदास": अवतरणों में अंतर

6 बाइट्स जोड़े गए ,  8 वर्ष पहले
छो
बॉट: अंगराग परिवर्तन
[अनिरीक्षित अवतरण][अनिरीक्षित अवतरण]
छो (कोष्टक से पहले खाली स्थान छोड़ा।)
छो (बॉट: अंगराग परिवर्तन)
केशव की छंद योजना संस्कृत साहित्य की छंद योजना है। उन्होंने कविता, सवैया, दोहा आदि छंदों का भी सफलतापूर्वक उपयोग किया है।
 
== अ लंकार ==
==अलंकार==
केशव को अलंकारों से विशेष मोह था उनके अनुसार -
 
:अबके कवि खद्योत सम जह-तह करत प्रकाश।।
 
== चित्र वीथिका ==
<gallery>
Image:Meister des Rasikapriyâ-Manuskripts 001.jpg|एक चित्र रसिकप्रिया से, १६१०
* [[भूषण]]
 
== बाहरी कड़ियाँ==
{{Commons category|Keshavdas}}
*[http://www.kavitakosh.org/kk/index.php?title=%E0%A4%95%E0%A5%87%E0%A4%B6%E0%A4%B5%E0%A4%A6%E0%A4%BE%E0%A4%B8_/_%E0%A4%AA%E0%A4%B0%E0%A4%BF%E0%A4%9A%E0%A4%AF केशव] (कविताकोश)