"विद्युतचुंबकीय वर्णक्रम" के अवतरणों में अंतर

छो
विराम चिह्न की स्थिति सुधारी।
छो (विराम चिह्न की स्थिति सुधारी।)
[[चित्र:EMS.PNG|thumb|450px]]
 
'''विद्युतचुंबकीय वर्णक्रम''' (electromagnetic spectrum) में उन सारी आवृत्तियों के विकिरण आते हैं जो सम्भव हैं ।हैं। किसी वस्तु का विद्युतचुंबकीय वर्णक्रम, उस वस्तु से विद्युत चुम्बकीय विकिरणों का अभिलक्षणिक वितरण या प्रायः केवल वर्णक्रम होता है ।है।
 
विद्युतचुंबकीय वर्णक्रम निम्न आवृत्तियों, जो कि नूतन रेडियो में प्रयोग होतीं हैं (तरंग दैर्घ्य के दीर्घ सिरे पर), से लेकर [[गामा विकिरण]] तक ( लघु सिरे तक) होता है, जो कि सहस्रों किलोमीटर की तरंगदैर्घ्य से लेकर एक [[अणु]] के नाप के एक अंश के बराबर तक की सारी आवृत्तियों को लिये होता है ।है। हमारे ब्रह्माण्ड में लघु तरंगदैर्ध्य सीमित है प्लैंक दूरी के आसपास तक; और दीर्घ तरंग दैर्ध्य सीमित है, ब्रह्माण्ड के आकार तक ।तक। वैसे वर्णक्रम को असीमित एवं अविराम ही कहते हैं ।हैं।
 
== परिचय ==
स्पेक्ट्रम के विभिन्न विभागों में सुविधा के लिए साधारणत: तरंगदैघ्य के भिन्न-भिन्न एकक प्रयुक्त होते हैं। [[रेडियो प्रसारण]] में 1 मीटर को एकक माना जाता है, तथा रेडियो के सूक्ष्म तरंग विभाग में एक मिलीमीटर को एकक माना जाता है। अवरक्त वर्णक्रम के लिए 10-4 सें.मी. का एकक प्रचलित है तथा दृश्य प्रकाश के लिए इससे भी छोटे 10-8 सें.मी. के एकक की आवश्यकता होती है ।है। 10-4 सें. मी. के एकक को म्यू और दृश्य प्रकाश के एकक (10-8 सें.मी.) को 'आंगस्त्रम' कहते हैं। प्रारंभ में [[एक्स-किरण|एक्सरे]] के लिए भी आंगस्त्रम उपयोग में लाया जाता था, किंतु एक्सरे वर्णक्रम में अधिक आविष्कार होने पर इस एकक से भी सूक्ष्म एकक की आवश्यकता होने लगी। अत: एक्सरे के लिए तथा गामा किरणों के लिए ज़ीगब्ह्रा ने एक नए एकक का उपयोग किया, जिसे एक्सरे एकक कहते हैं। यह 10<sup>-11</sup> सें. मी. के बराबर होता है। [[विद्युतचुंबकीय सिद्धांत]] की दृष्टि से एक्सरे और [[गामा किरण|गामा किरणों]] में कोई भेद नहीं है; एक्सरे प्रयोगशालाओं में उत्पन्न किए जा सकते हैं और गामा किरणें रेडियोधर्मी पदार्थो से प्राप्त होती हैं (हाल में अति प्रचंड विद्युद्विभव से गामा किरणों के तरंगदैर्घ्या के समान सूक्ष्म तरंगदैर्घ्या के एक्सरे का उत्पादन प्रयोगशाला में हो चुका है)। विद्युच्चुंबकीय वर्णक्रम में अत्यंत स्वल्प तरंगदैर्घ्या का विभाग एक्सरे तथा गामा किरणों का है। तरंगदैर्घ्य आवृत्तियों का प्रतिलोमानुपाती होने के कारण एक्सरे और गामा किरणों की आवृत्तियाँ अन्य विद्युच्चुंबकीय विकिरणों से बहुत अधिक होती है।
 
[[चित्र:Light spectrum.svg|right|frame|Legend<ref>[http://cbst.ucdavis.edu/education/courses/winter-2006-IST8A/ist8a_2006_01_09light.pdf What is Light?] – [[UC Davis]] lecture slides</ref><ref>[http://hypertextbook.com/physics/electricity/em-spectrum/ The Electromagnetic Spectrum, The Physics Hypertextbook]</ref><ref>[http://www.vlf.it/frequency/bands.html Definition of frequency bands on vlf.it]</ref>