मुख्य मेनू खोलें

बदलाव

5 बैट्स् नीकाले गए, 4 वर्ष पहले
छो
विराम चिह्न की स्थिति सुधारी।
 
== शिक्षा ==
राष्ट्रीय स्तर पर ख्यातिप्राप्त [[राजेन्द्र कृषि विश्वविद्यालय]]<ref>[http://www.pusavarsity.org.in राजेन्द्र कृषि विश्वविद्यालय जालपृष्ठ]</ref> समस्तीपुर जिले में पूसा नामक स्थान पर है, इसके आलावा कोई अन्य उच्च स्तरीय तकनीकी शिक्षा संस्थान यहाँ नहीं है ।है। प्राथमिक शिक्षा की स्थिति संतोषजनक है ।है। २००१ की जनगणना के अनुसार जिले मे साक्षरता दर<ref> [http://gov.bih.nic.in/Profile/CensusStats-03.htm बिहार मे साक्षरता दर]</ref> ४५.६७% (पुरुष: ५७.८३, स्त्री: ३२.६९) है ।है। समस्तीपुर तथा पूसा में केन्द्रीय विद्यालय तथा बेरौली में [[जवाहर नवोदय विद्यालय]] स्थित है। ललित नारायनण मिथिला विश्वविद्यालय दरभन्गा के अंतर्गत जिले में निम्नलिखित अंगीभूत डिग्री महाविद्यालय हैं:
* आचार्य नरेन्द्रदेव महाविद्यालय शाहपुर पटोरी
* बलिराम भगत महाविद्यालय समस्तीपुरज
* '''विद्यापतिनगर''': शिव के अनन्य भक्त एवं महान मैथिल कवि [[विद्यापति]] ने यहाँ [[गंगा]] तट पर अपने जीवन के अंतिम दिन बिताए थे। ऐसी मान्यता है कि अपनी बिमारी के कारण विद्यापति जब गंगातट जाने में असमर्थ थे तो [[गंगा]] ने अपनी धारा बदल ली और उनके आश्रम के पास से बहने लगी। वह आश्रम लोगों की श्रद्धा का केंद्र है।
 
* '''धोली महादेव मंदिर''': धोली महादेव मंदिर, ग्राम हरिहरपुर खेढ़ी, प्रखंड खानपुर, जिला समस्तीपुर, बिहार। यह बाबा का स्थान समस्तीपुर से २० किलोमीटर दूर स्थित हैं यहाँ के पास मैं मसिना कोठी हैं जो अंग्रेज के समय का कोठी हैं यहाँ पर उस समय मैं नील की खेती करवाते थे लेकिन देश आजाद होने के बाद यहाँ पर अब मक्के की खेती एवं अन्य फसल का अनुसन्धान केंद्र बन गया हैं यहाँ के द्वारा तैयार किया हुआ बीज दूर दूर तक पहुचाया जाता हैं ।हैं। इसके निकट के गाँव भोरेजयराम हैं जिसकी खेती करने का जमीन २२ सो एकर के आस पास हैं जहा मक्के की खेती की जाती है ।है। यह स्थान बूढी गंडक नदी के किनारे स्थित हैं
 
* '''करियनः''' महामहिषी कुमारिलभट्ट के शिष्य महान दार्शनिक उदयनाचार्य का जन्म ९८४ ईस्वी में शिवाजीनगर प्रखंड के करियन गाँव में हुआ था। उदयनाचार्य ने न्याय, दर्शन एवं तर्क के क्षेत्र में लक्षमणमाला, न्यायकुशमांजिली, आत्मतत्वविवेक, किरणावली आदि पुस्तकें लिखी जिनपर अनगिनत संस्थानों में शोध चल रहा है। दुर्भाग्य से यह महत्वपूर्ण स्थल सरकार की उपेक्षा का शिकार है।<ref> [http://in.jagran.yahoo.com/news/local/bihar/4_4_5447251_1.html] उदयनाचार्य की जन्मभूमि पर जागरण समाचार </ref>