"सर्वांगसमता" के अवतरणों में अंतर

2 बैट्स् नीकाले गए ,  7 वर्ष पहले
छो
विराम चिह्न की स्थिति सुधारी।
छो (Bot: Migrating 26 interwiki links, now provided by Wikidata on d:q154210 (translate me))
छो (विराम चिह्न की स्थिति सुधारी।)
[[चित्र:Congruence.png|thumb|350px| '''सर्वांगसमता''' का एक उदाहरण - वायीं तरफ् की दो आकृतियाँ सर्वांगसम हैं; तीसरी आकृति उनके [[समरूप]] है; अन्तिम आकृति, पहली दो आकृतियों के '''न''' तो सर्वांगसम है न ही समरूप।]]
 
[[ज्यामिति]] में बिन्दुओं के दो समुच्चय को परस्पर '''सर्वांगसम''' (congruent) कहते हैं यदि उनमें से किसी एक समुच्चय को स्थानान्तरण (translation), [[घूर्णन]] (rotation), परावर्तन (reflection) या इनके मिश्रित क्रियाओं के द्वारा परिवर्तित करने पर दूसरा समुच्चय प्राप्त किया जा सके। सर्वांगसम = सर्व + अंग + सम = सभी अंग बराबर ।बराबर। इसे और अधिक सरल रूप में यों कह सकते हैं कि दो चित्र यदि आकार-प्रकार (shape and size) में समान हैं तो वे परस्पर सर्वांगसम होते हैं (यद्यपि वे अलग-अलग स्थान पर हैं या अलग-अलग स्थितिओं में हो सकते हैं)
 
== त्रिभुजों की सर्वांगसमता ==