"ईसप" के अवतरणों में अंतर

2 बैट्स् जोड़े गए ,  7 वर्ष पहले
छो
बॉट: लाघव चिह्न (॰) का उचित प्रयोग।
छो (Bot: Migrating 68 interwiki links, now provided by Wikidata on d:q43423 (translate me))
छो (बॉट: लाघव चिह्न (॰) का उचित प्रयोग।)
'''ईसप''' जनप्रिय नीतिकथाकार। इनकी कथाओं के पात्र मनुष्य की अपेक्षा पशु पक्षी अधिक हैं। इस प्रकार की कथाओं को "बीस्ट फ़ेबुल्स" कहा जाता है। परंतु ईसप नाम का कोई व्यक्ति कभी था, इस विषय में बहुत कुछ संदेह है। तथापि [[होरोदोतस]] एवं कतिपय अन्य लेखकों के साक्ष्य के अनुसार ईसप के जीवन की कथा इस प्रकार की थी : ई.पू. छठी शताब्दी के मध्य में ईसप सामाँस द्वीप के निवासी इयाद्मन् के दास थे, परंतु वे विदेशी दास जिनके विषय में यह निश्चित पता नहीं था कि फ्रयाके, फ्रिगिया अथवा इथियोपिया देशों में से उनका जन्म कहाँ हुआ था। वे अत्यंत कुरूप थे। देल्फी में उन पर देवमंदिर के स्वर्णचषक की चोरी का आरोप लगाया गया और उनकी पर्वतशिखर से धक्का देकर मृत्युदंड दिया गया। पर प्रो.प्रो॰ गिल्बर्ट मरे को इस कथा पर विश्वास नहीं है।
 
जो कथाएँ ईसप के नाम से प्रचलित हैं उनका वर्तमान रूप उतना पुराना नहीं है जितना उपर्युक्त कथा के अनुसार होना चाहिए। पाँचवीं शताब्दी ई.पू. से ईसप और उनकी कथाओं की चर्चा चल पड़ी थी। आरिस्तोफ़ानिज़, ज़ेनोफ़न्, प्लेटो और अरस्तू की रचनाओं में इसके संकेत मिलते हैं। [[सुकरात]] ने अपने अंतिम समय में कुछ कथाओं को पद्यबद्ध किया था, ऐसा भी कहा जाता है। पर वास्तविकता यह है कि ईसवी सन् के पूर्व इन कथाओं के जो संकलन हुए थे वे अब उपलब्ध नहीं होते। इस समय जो प्राचीनतम संकलन उपलब्ध हुए थे वे फ़ेद्रुस और आवियनुस द्वारा लातीनी भाषा में तथा बाब्रियस द्वारा ग्रीक भाषा में प्रस्तुत किए गए थे। ये सभी लेखक ईसवी सन् के आरंभ के पश्चात् हुए हैं। इसके पश्चात् इन कथाओं का अनुवाद यूरोप की आधुनिक भाषाओं में होने लगा। इन अनुवादों में ज्याँ द ला.फ़ौताई का पद्यबद्ध फ्रेंच अनुवाद अतयधिक प्रसिद्ध है।