"चे ग्वेरा" के अवतरणों में अंतर

3 बैट्स् नीकाले गए ,  6 वर्ष पहले
छो
बॉट: अनावश्यक अल्पविराम (,) हटाया।
छो (बॉट: अनावश्यक अल्पविराम (,) हटाया।)
'''अर्नेस्तो''' "'''चे'''" '''गेवारा''' ([[स्पेनी]]: Ernesto Che Guevara; १४ जून १९२८ – ९ अक्तूबर १९६७), [[अर्जेन्टीना]] के [[मार्क्सवाद|मार्क्सवादी]] [[क्रांतिकारी]] थे जिन्होंने [[क्यूबा]] की क्रांति में मुख्य भूमिका निभाई। इन्हें '''एल चे''' या सिर्फ '''चे''' भी बुलाया जाता है। ये डॉक्टर, लेखक, गुरिल्ला नेता, सामरिक सिद्धांतकार और कूटनीतिज्ञ भी थे, जिन्होंने [[दक्षिणी अमरीका]] के कई राष्ट्रों में क्रांति लाकर उन्हें स्वतंत्र बनाने का प्रयास किया। इनकी मृत्यु के बाद से इनका चेहरा सारे संसार में सांस्कृतिक विरोध एवं वामपंथी गतिविधियों का प्रतीक बन गया है।<ref>[[#refCasey2009|Casey 2009]], p. 128.</ref>
 
चिकित्सीय शिक्षा के दौरान चे पूरे [[लातिनी अमरीका]] में काफी घूमे। इस दौरान पूरे महाद्वीप में व्याप्त गरीबी ने इन्हें हिला कर रख दिया।<ref name="RevMedicine">[http://www.marxists.org/archive/guevara/1960/08/19.htm On Revolutionary Medicine] Speech by Che Guevara to the Cuban Militia on August 19, 1960</ref> इन्होंने निष्कर्ष निकाला कि इस गरीबी और आर्थिक विषमता के मुख्य कारण थे एकाधिप्तय [[पूंजीवाद]], [[नवउपनिवेशवाद]] और [[साम्राज्यवाद]], जिनसे छुटकारा पाने का एकमात्र तरीका था - [[विश्व क्रांति]]।<ref name="AfroAsian1965">[http://www.marxists.org/archive/guevara/1965/02/24.htm At the Afro-Asian Conference in Algeria] A speech by Che Guevara to the Second Economic Seminar of Afro-Asian Solidarity in Algiers, Algeria on February 24, 1965</ref> इसी निष्कर्ष का अनुसरण करते हुए इन्होंने [[गुआटेमाला]] के राष्ट्रपति याकोबो आरबेंज़ गुज़मान के द्वारा किए जा रहे समाज सुधारों में भाग लिया। उनकी क्रांतिकारी सोच और मजबूत हो गई जब १९५४ में गुज़मान को [[अमरीका]] की मदद से हटा दिया गया। इसके कुछ ही समय बाद [[मेक्सिको सिटी]] में इन्हें राऊल और [[फिदेल कास्त्रो]] मिले, और ये क्यूबा की [[२६ जुलाई क्रांति]] में शामिल हो गए।<ref>[[#refBeaubien2009|Beaubien, NPR Audio Report, 2009]], 00:09-00:13</ref> चे शीघ्र ही क्रांतिकारियों की कमान में दूसरे स्थान तक पहुँच गए और [[बातिस्ता]] के राज्य के विरुद्ध दो साल तक चले अभियान में इन्होंने मुख्य भूमिका निभाई।<ref name="Castrosbrain1960">''"[[#refCastrosbrain1960|Castro's Brain]]"'' 1960.</ref>
 
क्यूबा की क्रांति के पश्चात चे ने नई सरकार में कई महत्त्वपूर्ण कार्य किए, और साथ ही सारे विश्व में घूमकर क्यूबा के [[समाजवाद]] के लिए अंतर्राष्ट्रीय समर्थन जुटाया। इनके द्वारा प्रशिक्षित सैनिकों ने [[पिग्स की खाड़ी आक्रमण]] को सफलतापूर्वक पछाड़ा।<ref name="Kellner89pg69">[[#refKellner1989|Kellner 1989]], p. 69-70.</ref> ये [[सोवियत संघ]] से नाभिकीय प्रक्षेपास्त्र ले कर आए, जिनसे १९६२ के क्यूबन प्रक्षेपास्त्र संकट की शुरुआत हुई, और सारा विश्व नाभिकीय युद्ध के कगार पर पहुँच गया।<ref>[[#refAnderson1997|Anderson 1997]], p. 526-530.</ref> साथ ही चे ने बहुत कुछ लिखा भी है, इनकी सबसे प्रसिद्ध कृतियाँ हैं - ''गुरिल्ला युद्ध की नियम-पुस्तक'' और दक्षिणी अमरीका में इनकी यात्राओं पर आधारित ''मोटरसाइकल डायरियाँ''। १९६५ में चे क्यूबा से निकलकर [[कांगो]] पहुंचे जहाँ इन्होंने क्रांति लाने का विफल प्रयास किया। इसके बाद ये [[बोलिविया]] पहुँचे और क्रांति उकसाने की कोशिश की, लेकिन पकड़े गए और इन्हें गोली मार दी गई।<ref>[[#refRyan1998|Ryan 1998]], p. 4</ref>
 
मृत्यु के बाद भी चे को आदर और धिक्कार दोनों ही भरपूर मिले हैं। [[टाइम पत्रिका]] ने इन्हें २०वीं शताब्दी के १०० सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण व्यक्तियों की सूची में शामिल किया।<ref>[[#refDorfman1999|Dorfman 1999]].</ref> चे की तस्वीर ''गेरिलेरो एरोइको'' (स्पेनी: ''Guerrillero Heroico'', वीर गुरिल्ला) को विश्व की सबसे प्रसिद्ध तस्वीर माना गया है।<ref>Maryland Institute of Art, referenced at [[#refBBCNews2001b|BBC News May 26, 2001]]</ref>