"निघंटु" के अवतरणों में अंतर

2 बैट्स् नीकाले गए ,  6 वर्ष पहले
छो
बॉट: अनावश्यक अल्पविराम (,) हटाया।
छो (पूर्णविराम (।) से पूर्व के खाली स्थान को हटाया।)
छो (बॉट: अनावश्यक अल्पविराम (,) हटाया।)
28 नव (नवीन) के छ,
 
29. दो दो करके अर्थवाले 26, और
 
30 वें खंड में द्यावापृथिवी के 24 ना कहे हैं।
 
=== पंचम अध्याय ===
पंचम अध्याय में मुख्य रूप से देवताओं का वर्णन है। इसे दैवतकांड कहते हैं। इसमें छह खंड हैं। इन खंडों में क्रमश: 3, 13, 36, 32, और 31 पद हैं। ये सभी पद देवतावाचक हैं। इस अध्याय की पदसंख्या 151 है।
 
पाँचों अध्यायों के पदों की संख्या का योग 1770 होता है। प्रत्येक अध्याय के अंत में खडों के प्रारंभिक शब्दों का संकलन किया है। इस निघंटु पर यास्क रचित निर्वचन है, जिसका नाम '''[[निरुक्त]]''' है।