"परियोजना प्रबंधक": अवतरणों में अंतर

छो
बॉट: अनावश्यक अल्पविराम (,) हटाया।
छो (बॉट से अल्पविराम (,) की स्थिति ठीक की।)
छो (बॉट: अनावश्यक अल्पविराम (,) हटाया।)
 
== अवलोकन ==
परियोजना प्रबंधक वह व्यक्ति है जो परियोजना के घोषित उद्देश्यों को पूरा करने के लिए जिम्मेदार होता है. परियोजना प्रबंधन की महत्वपूर्ण जिम्मेदारियों में शामिल हैं, परियोजना के स्पष्ट और प्राप्य उद्देश्यों को बनाना, परियोजना संबंधी आवश्यकताओं का निर्माण, और परियोजनाओं की तीनों बाधाओं - ''लागत'', ''समय'', तथा ''गुणवत्ता'' (स्कोप के नाम से भी जाना जाता है) - का प्रबंधन करना.
 
परियोजना प्रबंधक अक्सर ग्राहक के एक प्रतिनिधि के रूप में कार्य करता है और उसे ग्राहक की कंपनी के बारे में उपलब्ध जानकारी के आधार पर उसकी सम्पूर्ण आवश्यकताओं का निर्धारण तथा उन्हें लागू करना होता है. ग्राहक कंपनी की विभिन्न आंतरिक प्रक्रियाओं के अनुसार स्वयं को ढालने की क्षमता और उनके मनोनीत प्रतिनिधियों के साथ घनिष्ठ संबंध बनाना, यह सुनिश्चित करने के लिए आवश्यक है कि लागत, समय, गुणवत्ता और इन सब से ऊपर, ग्राहक संतुष्टि जैसे महत्वपूर्ण मुद्दों को साकार किया जा सके.
 
=== वास्तु परियोजना प्रबंधक ===
वास्तु परियोजना प्रबंधक वास्तुकला क्षेत्र के परियोजना प्रबंधक हैं. उनके पास निर्माण उद्योग में अपने समकक्ष की तरह कई एक सामान योग्यताएं हैं. एक [[वास्तुकार]] अक्सर जनरल कॉन्ट्रेक्टर (जीसी) के कार्यालय में निर्माण परियोजना प्रबंधक के साथ मिलकर काम करेगा, और साथ ही साथ डिजाइन टीम और कई ऐसे सलाहकारों के काम में सहयोग करेगा जो एक निर्माण परियोजना में योगदान करते हैं, और क्लाइंट के साथ संवाद का प्रबंधन करेगा. बजट, कार्ययोजना और गुणवत्ता-नियंत्रण के मुद्दे एक वास्तुकार के कार्यालय में परियोजना प्रबंधक की जिम्मेदारियां हैं.
 
=== सॉफ्टवेयर परियोजना प्रबंधक ===
एक सॉफ्टवेयर परियोजना प्रबंधक अन्य उद्योगों में अपने समकक्षों की तरह कई एक जैसी योग्यताएं रखता है. निर्माण और उत्पादन जैसे उद्योगों में पारंपरिक परियोजना प्रबंधन से सामान्य रूप से जुडी योग्यताओं के अलावा, एक सॉफ्टवेयर परियोजना प्रबंधक के पास विशेष तौर पर सॉफ्टवेयर विकास की एक व्यापक पृष्ठभूमि होगी. कई सॉफ्टवेयर परियोजना प्रबंधकों के पास कंप्यूटर विज्ञान, सूचना प्रौद्योगिकी या किसी अन्य संबंधित क्षेत्र में एक डिग्री होती है और विशेष तौर पर उसने उद्योग में एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर के रूप में काम किया होगा.
 
पारंपरिक परियोजना प्रबंधन में एक दिग्गज, भविष्यसूचक पद्धति जैसे कि [[वाटरफॉल मॉडल]] का अक्सर प्रयोग किया जाता है लेकिन सॉफ्टवेयर परियोजना प्रबंधकों के पास अनिवार्य रूप से कहीं अधिक हल्के, अनुकूलन योग्य तरीकों जैसे कि डीएसडीएम (DSDM), एससीआरयूएम (SCRUM), और एक्सपी (XP) की भी योग्यताएं होनी चाहियें. परियोजना प्रबंधन के ये तरीके एक नयी सॉफ्टवेयर प्रणाली विकसित करने की अनिश्चितता और अपेक्षाकृत छोटे, वृद्धिशील विकास चक्रों की वकालत करने पर आधारित हैं. ये वृद्धिशील या पुनरावृत्ति योग्य चक्र समयबद्ध (एक निश्चित अवधि के अंदर, विशेष तौर पर एक से चार सप्ताह में पूरा होने योग्य) होते हैं और प्रत्येक पुनरावृति के अंत में वितरण योग्य सम्पूर्ण प्रणाली का एक कार्यशील सबसेट तैयार करते हैं. हल्के दृष्टिकोण का बढ़ता अनुकूलन काफी हद तक इस तथ्य के कारण होता है कि सॉफ्टवेयर की आवश्यकताएं बदलाव के प्रति अति संवेदनशील होती हैं और एक एकल परियोजना के चरण में सॉफ्टवेयर का विकास शुरू होने से पहले सभी संभावित जरूरतों को उजागर करना बहुत मुश्किल होता है.
 
सॉफ्टवेयर परियोजना प्रबंधक से सॉफ्टवेयर विकास के जीवन चक्र (एसडीएलसी) (SDLC) से परिचित होने की भी उम्मीद की जाती है. इसके लिए आवश्यकताओं की प्रार्थना, अनुप्रयोग का विकास, तार्किक और वास्तविक डेटाबेस डिजाइन और नेटवर्किंग की गहराई से जानकारी की आवश्यकता हो सकती है. यह जानकारी विशेष तौर पर उपरोक्त शिक्षा और अनुभव का परिणाम है. सॉफ्टवेयर परियोजना प्रबंधकों के लिए एक व्यापक रूप से स्वीकार्य प्रमाणपत्र नहीं है, लेकिन उनमे से कईयों के पास परियोजना प्रबंधन संस्थान, PRINCE2 द्वारा प्रदत्त पीएमपी (PMP) पदनाम या परियोजना प्रबंधन में एक उच्च स्तरीय डिग्री जैसे कि एक एमएसपीएम (MSPM) या प्रौद्योगिकी प्रबंधन में अन्य स्नातक की डिग्री होगी.
* सर्टिफाइड एसोसिएट इन प्रोजेक्ट मैनेजमेंट (सीएपीएम)
* प्रोग्राम मैनेजमेंट प्रोफेशनल (पीजीएमपी)
* पीएमआई रिस्क मैनेजमेंट प्रोफेशनल (पीएमआई-आरएमपी), और
* पीएमआई शेड्यूलिंग प्रोफेशनल (पीएमआई-एसपी)