"प्राकृतिक दृश्य" के अवतरणों में अंतर

4 बैट्स् नीकाले गए ,  7 वर्ष पहले
छो
बॉट: अनावश्यक अल्पविराम (,) हटाया।
छो (बॉट: अनावश्यक अल्पविराम (,) हटाया।)
[[चित्र:RiverAarBern3.jpg|thumb|बर्न में आरे नदी]]
 
'''प्राकृतिक दृश्य''' [[भूमि]] के किसी एक हिस्से की सुस्पष्ट विशेषताएं हैं, जिनमें इसके [[प्राकृतिक स्वरूपों]] के भौतिक तत्त्व, जल निकाय जैसे कि [[नदियाँ]], [[झीलें]] एवं [[समुद्र]], प्राकृतिक रूप से उगनेवाली [[वनस्पतियों]] सहित [[धरती पर]] रहने वाले जीव-जंतु, [[मिट्टी से बनी उपयोगी]] मानव निर्मित वस्तुओं सहित भवन एवं संरचनाएं, और अस्थायी तत्त्व जैसे कि [[विद्युत व्यवस्था]] एवं [[मौसम]] संबंधी परिस्थितियाँ शामिल हैं.
 
इनके भौतिक स्रोत तथा मानवीय संस्कृति की छवि, जो बनने में सहस्राब्दियाँ लग जाती हैं, दोनों मिलकर प्राकृतिक दृश्य किसी भी स्थल के लोग तथा वह स्थल दोनों की स्थानीय तथा राष्ट्रीय पहचान को प्रतिबिंबित करते हैं. प्राकृतिक दृश्य, इनकी विशेषता और गुणवत्ता, किसी क्षेत्र की आत्म छवि और, उस स्थान की भावनात्मक अनुभूतियाँ, जो इसे दूसरे क्षेत्रों से अलग करती है, को परिभाषित करने में मदद करती है. यह लोगों के जीवन की गतिशील पृष्ठभूमि है.
 
[[पृथ्वी]] पर प्राकृतिक दृश्यों का एक व्यापक विस्तार है जिसमें [[ध्रुवीय क्षेत्रों]] के बर्फीले प्राकृतिक दृश्य, [[पहाड़ी]] प्राकृतिक दृश्य, विस्तृत [[मरुस्थलीय]] प्राकृतिक दृश्य, [[द्वीपों]] और [[समुद्रतटों के]]प्राकृतिक दृश्य, घने [[जंगलों]] या [[पेड़ों]] के प्राकृतिक दृश्यों सहित पुराने [[उदीच्य वन]] एवं [[उष्णकटिबंधीय वर्षावन]], और [[शीतोष्ण]] एवं [[उष्णकटिबंधीय]] क्षेत्रों के [[कृषि योग्य]] प्राकृतिक दृश्य शामिल हैं.
 
प्राकृतिक दृश्यों की समीक्षा आगे [[सांस्कृतिक प्राकृतिक दृश्य]], [[प्राकृतिक दृश्यपरिदृश्य पारिस्थितिकी]], [[परिदृश्य विनियोजन]], [[परिदृश्य मूल्यांकन]] और [[परिदृश्य डिजाइन]] अध्यायों के अंतर्गत की जायेगी.
हार्टशोर्न ने इस शब्द को ''रीजन'' से अलग रखा जो उनकी समझ में एक अधिक बड़े और लचीले आकार का है. उन्होंने [[आकाश]] को इस आधार पर हटा दिया क्योंकि वायुमंडल केवल मात्र वह माध्यम है जिसके जरिये पृथ्वी की सतह को देखा जाता है और इसमें भूमिगत खणिज उत्पादन कार्य, वनों के नीचे की मिट्टी और वर्षा शामिल नहीं है. हालांकि, उन्होंने चलायमान वस्तुओं को इस टिपण्णी के साथ शामिल किया कि [[ब्रॉडवे (न्यूयॉर्क सिटी)]] का कोई दृश्य इसके ट्रैफिक के बगैर अधूरा है. उन्होंने प्राकृतिक दृश्य में [[महासागरों]] को शामिल किये जाने को नज़रअंदाज कर दिया. उन्होंने दृश्यों के अतिरिक्त प्राकृतिक दृश्यों की [[व्याख्या]], जैसे उस भूमि पर आवाज और गंध, का विरोध किया क्योंकि ये सभी किसी एकीकृत अवधारणा को स्पष्ट नहीं करते. प्राकृतिक और सांस्कृतिक महत्व वाले प्राकृतिक दृश्यों की अवधारणा के संदर्भ में [[कार्ल सौर]] ने दूसरों से अलग धारणा रखी, उन्होंने कहा "जैसे ही दृश्य में इंसान की मौजूदगी होती है, प्राकृतिक दृश्य का स्वाभाविक अस्तित्व समाप्त हो जाता है". ''प्राइमेवल लैंडस्केप'' शब्द का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि जब इसका अर्थ मानव-पूर्व का प्राकृतिक दृश्य हो सकता है तो वर्त्तमान ''[[नैचुरल लैंडस्केप]]'' का अर्थ है "एक ऐसी सैद्धांतिक परिकल्पना जो कभी मौजूद नहीं थी".
 
1920 और 1930 के दशक के दौरान, ऐसी कार्य-प्रणालियाँ विकसित की गयीं जिससे प्राकृतिक दृश्य [[भूगोल]] का विशिष्ट नहीं तो अनिवार्य विषय बन गया.<ref>[5] माइकसेल, एम.डब्ल्यू., 1968, लैंडस्केप. इन इंटरनेशनल एनसाइक्लोपीडिया ऑफ द सोशल साइंसेस.</ref> सौर के नज़रिए से यह व्याख्या निकली कि भूगोल की भूमिका "प्राकृतिक दृश्य की [[सैद्धान्तिकता]]" की सिलसिलेवार जाँच थी. सौर ने प्राकृतिक दृश्यों को मोटे तौर पर उन क्षेत्रों के रूप में देखा जो भौतिकीय एवं प्राकृतिक, दोनों प्रकार के स्वरूपों का विशिष्ट समूह है, और प्राकृतिक दृश्य के अध्ययन को स्वाभाविक प्राकृतिक दृश्यों से [[सांस्कृतिक महत्व के प्राकृतिक दृश्यों]] में विकसित होने का पता लगाना कहा.
 
1940 के दशक से, इस अवधारणा को मान कर पारित कर दिया गया था क्योंकि भौतिकवेत्ताओं ने पाया कि अतीत की पुनर्रचना के साथ जुड़ी कठिनाइयाँ भयावह हैं और वर्तमान दुनिया के साथ उनकी प्राथमिक चिंता को दर्शाती है. पर्यावरण पर मानवीय प्रभाव की जानकारी होने के साथ-साथ ''स्वाभाविक'' प्राकृतिक दृश्य की अवधारणा पर तेजी से सवाल उठाये जाने लगे. हाल के दिनों के भौतिकवेत्ताओं ने [[मानवीय भूगोल]] के अंतर्गत किसी स्थान की व्यक्तिपरक विशेषताओं को समझाया है और इस प्रकार किसी क्षेत्र के वस्तुपरक और व्यक्तिपरक मूल्यांकन के बीच के पुल को पार किया है.<ref>[6] तुआन वाय.एफ़., 1976. "द एक्सपीरिएंस ऑफ लैंडस्केप" की समीक्षा. पेशेवर भूगोलवेत्ता, 28:1, 104-5.</ref>
''[[सीन]]'', ''[[सीनिक]]'' और ''[[सीनरी]]'' जैसे शब्द प्राकृतिक दृश्य की सटीक व्याख्या प्रस्तुत नहीं करते हैं. [[थियेटर]] में इस शब्द के मूल को देखें, जहाँ सीन का मतलब है किसी नाटक का एक हिस्सा, इस प्रकार सीन किसी प्राकृतिक दृश्य का एक हिस्सा हो सकता है. ''सीनरी'', जो किसी स्टेज पर उपयुक्त एक सजावटी पृष्ठभूमि को दर्शाता है, साथ ही यह किसी स्थान के सामान्य स्वरुप, विशेषकर एक [[चित्रात्मक]] संदर्भ को बताता है. हालांकि ''प्राकृतिक दृश्य'' के साथ इसका उपयोग एक दूसरे के स्थान पर किया जा सकता है लेकिन यह अर्थ की उसी गहराई को व्यक्त नहीं करता है.
 
''प्राकृतिक दृश्य सौंदर्य शास्त्र'' या सिर्फ ''सौंदर्य शास्त्र'' शब्द का साहित्य में अक्सर इस्तेमाल किया जाता है. प्राकृतिक दृश्य की तुलना में सौंदर्य शास्त्र का मूल कहीं अधिक विवादास्पद है. इसे ग्रीक शब्द ''ऐस्थेसिस'' से लिया गया है, जिसका अर्थ है "भावनात्मक समझ." इस शब्द का उपयोग एक युवा जर्मन दार्शनिक [[एलेक्जेंडर बौमगार्टन]] [1714 - 62] द्वारा ''ऐस्थेटिका'' [1750-58] के शीर्षक के रूप में किया जाता था, जिन्होंने इस ग्रीक शब्द का उपयोग गलत तरीके से [[सौंदर्य]] की आलोचना या [[स्वाद (समाजशास्त्र)]] के सिद्धांत के रूप में किया. इस प्रकार जो शब्द वास्तव में भावनात्मक समझ (सेंस परसेप्शन) के विस्तृत क्षेत्र पर लागू होता है, उसे स्वाद के क्षेत्र तक ही सीमित कर दिया गया था. [[इमैनुअल कैंट]] ने 1781 में इस उपयोग की आलोचना की और इसे इसके सुन्दरतम अर्थ "भावनात्मक समझ का दर्शनशास्त्र" के रूप में इस्तेमाल किया"<ref>[10] ऑक्सफोर्ड डिक्शनरी ऑफ इंग्लिश एटिमोलोजी, 1966. सीटी ओनियंस, [एड], मैकमिलन, न्यूयॉर्क.</ref>. हालांकि, 1830 के बाद इंग्लैण्ड में प्रवेश पाते ही अशुद्ध शब्द ''ऐस्थेटिक्स'' की लोकप्रियता बढ़ने लगी, और ऑक्सफोर्ड इंग्लिश डिक्शनरी के अनुसार, बौमगार्टन द्वारा इसके अर्थ की नयी व्याख्या के एक सदी के अंदर ही, समूचे यूरोप में इसका व्यापक रूप से प्रयोग होने लगा था.
 
''सौंदर्य शास्त्र'' की डिक्शनरी व्याख्या बौमगार्टन की त्रुटि को दूर करती है और इसे "सोचने योग्य या अभौतिक चीजों की बजाए इन्द्रियों द्वारा समझी जाने वाली चीजें"<ref>[11] शॉर्टर ऑक्सफोर्ड डिक्शनरी, 1973</ref>, "सुन्दरता की अनुभूति से संबंधित या सौंदर्य शास्त्र का विज्ञान" मैकेरी डिक्शनरी, 1981., या "सौंदर्य शास्त्र अथवा सुन्दरता के अर्थ में या इससे संबंधित" चीजों के रूप में परिभाषित करती है"<ref>[12] वेबस्टर्स डिक्शनरी, 1973.</ref>. ''सौंदर्य शास्त्र'' को [[दर्शनशास्त्र]] की एक ऐसी शाखा के रूप में देखा जाता है, जो "प्रकृति और स्वाद से कला के नियमों एवं सिद्धांतों, ललित कला के सिद्धांत का पता लगाता है; सौंदर्य विज्ञान ..."<ref>[13] ऑक्सफोर्ड डिक्शनरी ऑफ इंग्लिश एटिमोलॉजी, 1966. सीटी ओनियंस, [एड], मैकमिलन, न्यूयॉर्क. </ref> अथवा "[जो] सौंदर्य की प्रकृति के साथ और सौंदर्य संबंधी निर्णयों के साथ उपयोग में आता है"<ref>[69] ऑक्सफोर्ड इंग्लिश डिक्शनरी</ref>.