"राजसूय" के अवतरणों में अंतर

1 बैट् नीकाले गए ,  7 वर्ष पहले
छो
बॉट: अनावश्यक अल्पविराम (,) हटाया।
छो (Bot: Migrating 5 interwiki links, now provided by Wikidata on d:q1029727 (translate me))
छो (बॉट: अनावश्यक अल्पविराम (,) हटाया।)
इस यज्ञ की विधी यह है की जिस किसी भी राजा को चक्रचती सम्राट बनना होता था वह राजसूय यज्ञ संपन्न कराकर एक अश्व (घोड़ा) छोड़ दिया करता था। वह घोड़ा अलग-अलग राज्यों और प्रदेशों में फिरता रहता था। उस अश्व के पीछे-पीछे गुप्त रूप से राजसूय यज्ञ कराने वाले राजा के कुछ सैनिक भी हुआ करते थे।
 
जब वह अश्व किसी राज्य से होकर जाता और उस राज्य का राजा उस अश्व को पकड़ लेता था तो उसे उस अश्व के राजा से युद्ध करना होता था और अपनी वीरता प्रदर्शित करनी होती थी, और यदि कोई राजा उस अश्व को नहीं पकड़ता था तो इसका अर्थ यह था की वह राजा उस राजसूय अश्व के राजा को नमन करता है और उस राज्य के राजा की छत्रछाया में रहना स्वीकार करता है।
 
[[रामायण]] काल में [[श्रीराम]] और [[महाभारत]] काल में महाराज [[युधिष्ठिर]] द्वारा यह यज्ञ किया गया था।