"वृद्धि हार्मोन" के अवतरणों में अंतर

16 बैट्स् नीकाले गए ,  5 वर्ष पहले
छो
बॉट: अनावश्यक अल्पविराम (,) हटाया।
छो (सन्दर्भ की स्थिति ठीक की।)
छो (बॉट: अनावश्यक अल्पविराम (,) हटाया।)
वृद्धि हार्मोन का प्रयोग चिकित्सा-विज्ञान में बच्चों के वृद्धि विकारों और वयस्क वृद्धि हार्मोन अल्पता के उपचार के लिये नुस्खे में लिखी जाने वाली औषधि के रूप में किया जाता है. युनाइटेड स्टेट्स में यह कानूनी रूप से केवल डाक्टर के नुस्खे पर दवाई की दुकानों में उपलब्ध है. पिछले कुछ वर्षों में, युनाइटेड स्टेट्स में कुछ डाक्टरों ने जीएच-अल्पताग्रस्त (लेकिन स्वस्थ लोगों में नहीं) अधिक उम्र के रोगियों में जीवनशक्ति बढ़ाने के लिये वृद्धि हार्मोन के नुस्खे लिखना शुरू कर दिया है. कानूनन सही होते हुए भी, एचजीएच (HGH) के इस प्रयोग की प्रभावशीलता और सुरक्षा को किसी चिकित्सकीय प्रयोग में नहीं परखा गया है. इस समय, एचजीएच (HGH) को अभी भी एक अत्यंत जटिल हार्मोन माना जाता है और इसके कार्यों में से कई के बारे में अब तक जानकारी नहीं है.<ref name="ped">{{cite book | author = Powers M | authorlink = | editor = Deidre Leaver-Dunn; Joel Houglum; Harrelson, Gary L. | others = | title = Principles of Pharmacology for Athletic Trainers | edition = | language = | publisher = Slack Incorporated | location = | year = 2005 | origyear = | pages = 331–332 | chapter = Performance-Enhancing Drugs| quote = | isbn = 1-55642-594-5 | oclc = | doi = | url = | accessdate = }}</ref>
 
उपचय-प्रोत्साहक एजेंट के रूप में, एचजीएच (HGH) का प्रयोग 1970 के दशक से खेलों में प्रतिस्पर्धियों द्वारा किया जाता रहा है, और इसे आईओसी (IOC) और एनसीएए (NCCA) द्वारा प्रतिबंधित कर दिया गया है. चूंकि पारम्परिक [[मूत्र]] विश्लेषण से एचजीएच (HGH) की उपस्थिति का पता नहीं लगाया जा सकता था, इसलिये इस प्रतिबंध को 2000 के दशक के प्रारंभ तक लागू नहीं किया जा सका, जिस समय प्राकृतिक और कृत्रिम एचजीएच (hGH) का अंतर पहचानने वाले रक्त परीक्षणों का विकास शुरू हो रहा था. एथेंस, ग्रीस में 2004 ओलिम्पिक खेलों में ‘[[विश्व डोपिंग विरोधी संस्था|वाडा (WADA)]]’ द्वारा किये गए रक्त के परीक्षणों का उद्देश्य मुख्यतः एचजीएच (HGH) का पता लगाना था.<ref name="ped"/> इस दवा का यह उपयोग एफडीए (FDA) द्वारा अनुमोदित नहीं है और युनाइटेड स्टेट्स में कानूनन जीएच (GH) केवल डाक्टरी नुस्खे पर ही उपलब्ध है.
 
जीएच का अध्ययन औद्योगिक कृषि में पशुधन का अधिक बेहतर तरीके से विकास करने हेतु प्रयोग के लिये किया गया है और पशुधन के उत्पादन में जीएच के प्रयोग के लिये सरकारी अनुमोदन प्राप्त करने के लिये कई प्रयत्न किये गए हैं. ये प्रयोग विवादास्पद रहे हैं. युनाइटेड स्टेट्स में, जीएच (GH) का केवल एक एफडीए-अनुमोदित उपयोग है, और वह है, डेरी की गायों में दूध का उत्पादन बढ़ाने के लिये गोवंशीय सोमेटोट्रॉपिन नामक जीएच के एक गाय-विशिष्ट प्रकार का प्रयोग.
 
== जीवविज्ञान ==
=== जीन का स्थान ===
{{Main|Growth hormone 1|Growth hormone 2}}
मानवीय वृद्धि हार्मोन की जीनें, जिन्हें वृद्धि हार्मोन 1 (सोमेटोट्रॉपिन) और वृद्धि हार्मोन 2 के नाम से जाना जाता है, क्रोमोसोम 17 के क्यू22-24 क्षेत्र में स्थित होती हैं और मानवीय कोरियॉनिक सोमेटोमैमोट्रॉपिन (जिन्हें अपराजन्य लैक्टोजन भी कहते हैं) जीनों से नजदीकी से संबंधित होती हैं. जीएच (GH), मानवीय कोरियानिक सोमेटोमैमोट्रॉपिन, और प्रोलैक्टिन वृद्धि-प्रोत्साहक और क्षीरजनक गतिविधियुक्त समधर्मी हारमोनों के एक समूह के सदस्य हैं.
 
=== संरचना ===
 
बच्चों और किशोरों में ऊंचाई बढ़ाने के अलावा, वृद्धि हार्मोन के शरीर पर कई अन्य प्रभाव होते हैं:
* [[कैल्शियम]] के धारण में वृद्धि करता है, और हड्डी के खनिजीकरण को बढ़ाता व उसको मजबूत बनाता है.
* सैक्रोमियर हाइपरपलासिया के जरिये [[पेशीय ऊतक|मांसपेशी]] पिंड की मात्रा बढ़ाता है.
* वसाअपघटन को बढ़ावा देता है.
=== शरीर में जीएच (GH) का बहुत कम उत्पादन होने से उत्पन्न समस्याएं ===
{{Main|Growth hormone deficiency}}
वृद्धि हार्मोन की कमी के प्रभाव, वह जिस उम्र में होती है, उसके अनुसार भिन्न होते हैं. बच्चों में, वृद्धि-लोप और छोटा कद जीएच (GH) की कमी के मुख्य लक्षण होते हैं, जिसके आम कारणों में जीनों के रोग और जन्मजात कुनिर्माण शामिल हैं. इसके कारण यौन परिपक्वता में देर भी हो सकती है. वयस्कों में, इसकी कमी विरल रूप से होती है,<ref name="Molitch et al. 2006">{{cite journal | author = Molitch ME, Clemmons DR, Malozowski S, Merriam GR, Shalet SM, Vance ML; Endocrine Society's Clinical Guidelines Subcommittee, Stephens PA | title = Evaluation and treatment of adult growth hormone deficiency: an Endocrine Society Clinical Practice Guideline | journal = J. Clin. Endocrino. Metab. | volume = 91 | issue = 5 | pages = 1621–34 | year = 2006 | month = May | pmid = 16636129 | doi = 10.1210/jc.2005-2227 | url = }}</ref> और सबसे आम कारण एक पीयूषग्रंथि अर्बुद होता है, और अन्य कारणों में बाल्यावस्था की किसी समस्या का चालू रहना, अन्य संरचनात्मक विक्षतियां या चोट और, बहुत विरल रूप से अनजान कारणों से हुई जीएचडी (GHD) शामिल हैं.
 
जीएचडी से ग्रस्त वयस्क अविशिष्ट समस्याओं के साथ प्रस्तुत होते हैं जिनमें मांसपेशियों की मात्रा में कमी के साथ कमर की स्थूलता, और कई बार जीवन में ऊर्जा और गुणवत्ता में ह्रास शामिल हैं.<ref name="Molitch et al. 2006"/>
 
जीएच की कमी के निदान के लिये एक बहुपायदान वाली नैदानिक प्रक्रिया का प्रयोग किया जाता है, जिसके अंतिम चरण में जीएच प्रोत्साहन परीक्षाएं यह देखने के लिये की जाती हैं कि क्या विभिन्न प्रोत्साहकों द्वारा उत्तेजित किये जाने पर रोगी की पीयूष ग्रंथि जीएच की एक मात्रा निर्गमित करेगी.
=== जीएच (GH) की कमी से संबंधित जीएच से किये जाने वाले एफडीए (FDA)-अनुमोदित उपचार ===
 
बाह्यजन्य जीएच (GH) से उपचार की केवल सीमित परिस्थितियों में ही सिफारिश की जाती है,<ref name="Molitch et al. 2006"/> और दुष्प्रभावों की घटनाओं और तीव्रता के कारण नियमित देखरेख आवश्यक होती है. जीएच का प्रयोग बाल्यकाल में शुरू हुई (विकास अवस्था के पूर्ण होने के बाद) या वयस्कावस्था में शुरू हुई (सामान्यतः किसी अर्जित पीयूषग्रंथि अर्बुद के परिणामस्वरूप) जीएच (GH) की कमी से ग्रस्त वयस्कों में विस्थापन उपचार के रूप में किया जाता है. इन रोगियों में, विविध तरह के फायदों में चर्बी में कमी, दुबलेपन में वृद्धि, हड्डी के घनत्व में वृद्धि,बेहतर रक्तवसा स्तर, हृदय-नलिका जोखम कारकों में कमी, और स्वस्थ होने की बेहतर मानसिक-सामाजिक अनुभूति शामिल हैं.
 
=== जीएच की कमी से असंबंधित जीएच से किये जाने वाले एफडीए (FDA)-अनुमोदित उपचार ===
जीएच (GH) का प्रयोग ऐसे रोगों के इलाज के लिये किया जा सकता है, जिनके कारण कद छोटा रह जाता है परन्तु इसका संबंध जीएच (GH) की कमी से नहीं होता. कुछ भी हो, इस उपचार के परिणाम केवल जीएच (GH) की कमी से हुए छोटे कद में होने वाले लाभ जितने नाटकीय नहीं होते. जीएच (GH) से अकसर उपचार किये जाने वाले छोटे कद के अन्य कारणों के उदाहरण हैं, टर्नर रोगसमूह, गुर्दों का दीर्घकालिक असामर्थ्य, प्रैडर-विल्ली रोगसमूह, अंतर्गर्भाशय विकास मंदता, और तीव्र अनजान कारणों से हुआ छोटा कद. इन रोगों में वृद्धि की दर को देखने योग्य स्थिति तक तेज करने के लिये ऊंची (औषधिशास्त्रीय) मात्राओं की आवश्यकता होती है, जिससे उसके रक्त स्तर सामान्य (शरीरक्रियात्मक) से काफी अधिक हो जाएं. ऊंची मात्राओं में दिये जाने पर भी, उपचार के समय दुष्प्रभाव विरल रूप से ही होते हैं, तथा उपचार किये जा रहे रोग के अनुसार उनमें भिन्नताएं भी बहुत कम होती हैं.
 
=== प्रायौगिक उपयोग - बुढ़ापा-निरोध और अन्य ===
नीचे दिया गया विवरण जीएच (GH) के उन प्रायोगिक उपयोगों का वर्णन करता है, जो जीएच (GH) के प्रयोग की डाक्टर की सिफारिश होने पर कानून-सम्मत हैं. कुछ भी हो, बुढ़ापा-विरोधी एजेंट के रूप में जीएच के प्रयोग की सफलता और सुरक्षा अज्ञात है क्यौंकि उसके इस उपयोग की किसी दोहरे-अनदेखे नैदानिक प्रयोग में जांच नहीं हुई है.
 
युनाइटेड स्टेट्स में पिछले कुछ वर्षों में, कुछ डाक्टरों नें ताकत बढ़ाने के लिये जीएच (GH) की कमी से ग्रस्त अधिक उम्र के रोगियों (लेकिन स्वस्थ लोगों में नहीं) में वृद्धि हार्मोन देना शुरू कर दिया है. कानूनसम्मत होने पर भी, एचजीएच (HGH) के इस उपयोग की परीक्षा किसी नैदानिक प्रयोग में सामर्थ्य और सुरक्षा के लिये नहीं की गई है. फिलहाल, एचजीएच (hGH) को अभी भी काफी जटिल हार्मोन माना जाता है, और इसके अनेक कार्य अभी भी अज्ञात हैं.<ref name="ped">{{cite book | author = Powers M | authorlink = | editor = Deidre Leaver-Dunn; Joel Houglum; Harrelson, Gary L. | others = | title = Principles of Pharmacology for Athletic Trainers | edition = | language = | publisher = Slack Incorporated | location = | year = 2005 | origyear = | pages = 331–332 | chapter = Performance-Enhancing Drugs| quote = | isbn = 1-55642-594-5 | oclc = | doi = | url = | accessdate = }}</ref>
 
जीएच (GH) के बुढ़ापाचविरोधी उपचार होने के दावे 1990 में शुरू हुए जब ''न्यू इंगलैंड जर्नल आफ मेडिसिन'' द्वारा एक अध्ययन का प्रकाशन किया गया, जिसमें 60 वर्ष से अधिक वय के 12 पुरूषों का उपचार करने के लिये जीएच का प्रयोग किया गया.<ref name="pmid2355952">{{cite journal | author = Rudman D, Feller AG, Nagraj HS, Gergans GA, Lalitha PY, Goldberg AF, Schlenker RA, Cohn L, Rudman IW, Mattson DE | title = Effects of human growth hormone in men over 60 years old | journal = N. Engl. J. Med. | volume = 323 | issue = 1 | pages = 1–6 | year = 1990 | month = July | pmid = 2355952 | doi = 10.1056/NEJM199007053230101| url = | issn = }}</ref> अध्ययन के पूरे होने पर, सभी पुरूषों में सांख्यिकिय रूप से ध्यान देने योग्य दुबले शरीर पिंड और हड्डी खनिज में वृद्धि पाई गई, जब कि नियंत्रित समूह में ऐसा कुछ नहीं हुआ. अध्ययन के लेखकों ने पाया कि ये सभी सुधार 10- से 20- वर्ष की वृद्धावस्था अवधि में सामान्यतः होने वाले परिवर्तनों से विपरीत थे. इस तथ्य के बावजूद कि लेखकों ने यह दावा कभी नहीं किया कि जीएच (GH) ने बुढ़ापे की प्रक्रिया को ही पलटा दिया था, उनके परिणामों का गलत अर्थ लगाकर यह संकेत लिया गया कि जीएच (GH) एक प्रभावशाली बुढ़ापा-विरोधी एजेंट है.<ref name="physorg">{{cite journal | author = Liu H, Bravata DM, [[Ingram Olkin|Olkin I]], Nayak S, Roberts B, Garber AM, Hoffman AR | title = Systematic review: the safety and efficacy of growth hormone in the healthy elderly | journal = Ann. Intern. Med. | volume = 146 | issue = 2 | pages = 104–15 | year = 2007 | month = January | pmid = 17227934 | doi = | url = | issn = }}</ref><ref name="urlNo proof that growth hormone therapy makes you live longer, study finds">{{cite web | url = http://www.physorg.com/news88140162.html | title = No proof that growth hormone therapy makes you live longer, study finds | author = | authorlink = | coauthors = | date = 2007-01-16 | work = | publisher = PhysOrg.com | pages = | language = | archiveurl = | archivedate = | quote = | accessdate = 2009-03-16}}</ref><ref>स्टीफन बैरेट, एम.डी. ग्रोथ हॉर्मोन योजनाएं और घोटाले [http://www.quackwatch.com/01QuackeryRelatedTopics/hgh.html ]</ref> इसके फलस्वरूप विवादग्रस्त अमेरिकन एकेडमी आफ एंटी-एजिंग मेडिसिन जैसै संगठनों द्वारा इस हार्मोन को एक "बुढ़ापा-विरोधी एजेंट" के रूप में प्रोत्साहित किया जाने लगा.<ref name="NYTPoison">{{cite news
1985 में, यू.एस. और अन्य स्थानों में उपचार में प्रयोग के लिये जैवसंश्लेषित मानवीय वृद्धि हार्मोन ने पीयूषग्रंथि से प्राप्त मानवीय वृद्धि हार्मोन का स्थान ले लिया.
 
2005 में, युनाइटेड स्टेट्स में उपलब्ध पुनःसंयोजी वृद्धि हार्मोनों (और उनके उत्पादकों) में नुट्रोपिन (जेनेन्टेक), हूमाट्रोप (लिली), जीनोट्रॉपिन (फाइजर), नॉर्डिट्रॉपिन (नोवो), और सैजेन (मर्क सेरोनो) शामिल थे. 2006 में,यूएस फुड एंड ड्रग एड्मिनिस्ट्रेशन (एफडीए (FDA)) ने ओम्नीट्रोप (सैंडोज) नामक आरजीएच के एक प्रकार का अनुमोदन किया. वृद्धि हार्मोन के एक लगातार मुक्त होने वाले प्रकार, नूट्रोपिन डिपो (जेनेन्टेक और एल्कर्म्स) को 1999 में एफडीए (FDA) द्वारा अनुमोदित किया गया, जिससे आवश्यक इंजेक्शनों की संख्या (रोजाना की जगह 2 या 4 हफ्तों में एक बार) कम की जा सकी. लेकिन, इसके उत्पादन को जेनेन्टेक/एल्कर्म्स द्वारा 2004 में आर्थिक कारणों से बंद कर दिया गया. (नूट्रोपिन डिपो के उत्पादन में अन्य नूट्रोपिन उत्पादनों के मुकाबले बहुत अधिक लागत आती थी<ref>जेनेंटेक एंड ऐल्कार्मेस अनाउंस डिसीज़न टू डिसकंटिन्यु कमर्शलिज़ैशन ऑफ़ न्युट्रोपिन डिपो. http://archive.is/20120709020209/findarticles.com/p/articles/mi_m0EIN/is_2004_June_1/ai_n6050768/</ref>).
 
== जीएच (GH) से संबंधित होने का दावा करने वाले आहार पूरक ==
 
जैसा कि ऊपर बताया गया है, यह विचार कि जीएच का प्रयोग बुढ़ापे को रोकने के लिये किया जा सकता है, अमरीकी संस्कृति में घर कर चुका है, और आहार पूरकों की बिक्री करने वाली कई कंपनियों की वेबसाइटें हैं जो ऐसे उत्पादनों का विक्रय करती हैं जिन्हें विज्ञापनों में जीएच (GH) से जोड़ा जाता है, और जिनके आयुर्विज्ञान-सदृश नाम होते हैं, लेकिन ध्यान से देखने पर जिनका विवरण एचजीएच निर्गमक या ऐसी ही किसी वस्तु के रूप में किया जाता है, और जब कोई प्रयुक्त वस्तुओं की सूची दोखता है, तो उन उत्पादनों का अमाइनो अम्लों, खनिजों, विटामिनों, और/या जड़ी-बूटी के काढ़ों से बना हुआ बताया जाता है, जिनके संयोग के कारण शरीर द्वारा और जीएच (GH) बनाने की बात बताई जाती है, और इस तरह के कई लाभदायक प्रभावों का दावा किया जाता है. वेबसर्च के द्वारा इस तरह के उदाहरणों<ref>सेक्राट्रोपिन [http://www.secratatropinhgh.com ]</ref><ref>सिंट्रोपिन [http://www.advice-hgh.com/igf-1.html#sytropin ]</ref> का पता लगाना आसान है. युनाइटेड स्टेट्स में, चूंकि इन उत्पादनों को आहार पूरकों के रूप में बेचा जाता है, इसलिये उनमें जीएच (GH), जो कि एक औषधि है, का होना अवैध है. इसके अलावा, चूंकि ये उत्पादन आहार पूरक हैं, इसलिये युनाइटेड स्टेट्स के कानून के अंतर्गत, युनाइटेड स्टेट्स में उन्हें बेचने वाली कंपनियां यह दावा नहीं कर सकतीं कि पूरक किसी रोग या विकार का इलाज या रोकथाम करता है, और विज्ञापन की वस्तुओँ में एक घोषणा होनी चाहिये, कि स्वास्थ्य विषयक दावे एफडीए द्वारा अनुमोदित नहीं हैं. एफडीए (FDA) कानून पर अमल करवाता है, जिसके उदाहरण<ref>चेतावनी पत्र - एटलस संचालन, इंक. [http://www.fda.gov/ICECI/EnforcementActions/WarningLetters/ucm215918.htm ][http://www.fda.gov/ICECI/EnforcementActions/WarningLetters/ucm215918.htm ]</ref> एफडीए (FDA) की वेबसाइट पर पाए जा सकते हैं.
 
== संदर्भ ==