"सरस्वतीकंठाभरण" के अवतरणों में अंतर

छो
बॉट: अंगराग परिवर्तन।
छो (बॉट: अंगराग परिवर्तन।)
इस ग्रंथ पर आद्योपांत किसी टीका की रचना नहीं मिलती। पहले तीन परिच्छेदों पर रत्नेश्वर रामसिंहकृत [[दर्पण]] टीका तथा चौथे परिच्छेद पर प्रसिद्ध टीकाकार जगद्घर की [[विवरण]] नामक टीका उपलब्ध हैं, पंचम परिच्छेद का टीका नहीं है। यह ग्रंथ निर्णय सागर द्वारा प्रकाशित है। इसका अनुवाद अभी तक नहीं हुआ है। सरस्वतीकंठाभरण में उद्धृत उदाहरण श्लोकों की सूची और उनके रचयिताओं की खोज कर एक सूची कर्नल जेकब ने बनाई है, जो इंडिया ऑफिस लायब्रेरी, लंदन में सुरक्षित है।
 
== बाहरी कड़ियाँ==
*[http://www.dli.gov.in/cgi-bin/metainfo.cgi?&title1=Saraswatikanthabharana&author1=&subject1=LANGUAGE.LINGUISTICS.LITERATURE&year=0%20&language1=hindi&pages=186&barcode=5990010121269&author2=&identifier1=&publisher1=&contributor1=&vendor1=NONE&scanningcentre1=iiit,%20allahabad&scannerno1=11&digitalrepublisher1=Digital%20Library%20of%20India&digitalpublicationdate1=2005-12-31&numberedpages1=&unnumberedpages1=&rights1=OUT_OF_COPYRIGHT&copyrightowner1=&copyrightexpirydate1=&format1=TIFF%20&url=/rawdataupload/upload/0121/271 सरस्वतीकण्ठाभरण] (भारत का आंकिक पुस्तकालय)
*[https://sa.wikisource.org/wiki/%E0%A4%B8%E0%A4%B0%E0%A4%B8%E0%A5%8D%E0%A4%B5%E0%A4%A4%E0%A5%80%E0%A4%95%E0%A4%A3%E0%A5%8D%E0%A4%A0%E0%A4%BE%E0%A4%AD%E0%A4%B0%E0%A4%A3%E0%A4%AE%E0%A5%8D सरस्वतीकण्ठाभरणम्] (संस्कृत विकिस्रोत)