"स्कन्दगुप्त" के अवतरणों में अंतर

छो
बॉट: अंगराग परिवर्तन।
छो (बॉट: अंगराग परिवर्तन।)
यह [[हिंदी साहित्य]] के प्रसिद्ध साहित्यकार [[जयशंकर प्रसाद]] द्वारा रचित नाटक 'स्कंदगुप्त' का नायक है। यह एक स्वाभिमानी, नीतिज्ञ, देशप्रेमी, वीर और स्त्रियों के सम्मान की रक्षा करने वाला शासक है। यह स्त्री का रूप धारण कर ध्रुवस्वामिनी के बदले शांती का प्रस्ताव रखने वाले शासक शकराज से द्वंद्व युद्ध कर उसे मौत के घाट उतार देता है। इस तरह वह अपने वंश की महारानी [[ध्रुवस्वामिनी]] के मर्यादा की रक्षा करता है। बाद में रामगुप्त की हत्या के बाद वह ध्रुवस्वामिनी से विवाह भी करता है।
 
== इन्हें भी देखें==
*[[भीतरी (गाँव)]]
*[[भुक्ति]]